बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा में लगा नर्स और मनरेगा कर्मियों की ड्यूटी, हड़ताल पार जाएंगे मास्टर

बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा में लगा नर्स और मनरेगा कर्मियों की ड्यूटी, हड़ताल पार जाएंगे मास्टर

- in सोशल मीडिया
7126
0

शिक्षकों की होने वाली हड़ताल के दौरान मैट्रिक की परीक्षा में में मनरेगाकर्मियों के साथ नर्स गार्डिंग करेंगी।

PATNA ; 17 फरबरी से मैट्रिक की परीक्षा है और उसी दिन से नियोजित शिक्षकों के लिए समान वेतन व सेवा शर्त की मुख्य मांग को लेकर शिक्षक अनिश्चतकालीन हड़ताल पर जाने वाले हैं। अनिश्चितकालीन हड़ताल का फैसला बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति ने लिया है।

शिक्षकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल का असर मैट्रिक की परीक्षा पर नहीं पड़े, इसके लिए लखीसराय के जिलाधिकारी ने पंचायत रोजगार सेवकों, एएनएम, प्रशिक्षु एएनएम, पंचायत-प्रखंड कार्यालयों के कार्यालय सहायकों, लेखापालों, कृषि सलाहकारों एवं कृषि समन्वयकों की सूची मांगी है। इस बाबत जिलाधिकारी द्वारा जिले के उप विकास आयुक्त, सिविल सर्जन, जिला पंचायतीराज पदाधिकारी एवं जिला कृषि पदाधिकारी को निर्देश दिये गये हैं। लखीसराय जिले में मैट्रिक की परीक्षा के लिए 18 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं। इनमें नौ परीक्षा केंद्र बालिकाओं के लिए हैं।

dailybihar, india news, news in hindi, latest news in hindi, बिहार समाचार, bihar news, bihar news in hindi, bihar news hindi matric, matric exam answer sheet, bseb, theft case, katihar news, चोरी, मैट्रिक परीक्षा, मैट्रिक की कॉपियां. कटिहार न्यूज, बिहार मैट्रिक परीक्षा

17 फरवरी से मैट्रिक परीक्षा होगी शुरू, जानिए जरुरी बातें : राज्य में 17 से 24 फरवरी तक बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से होने वाली मैट्रिक परीक्षा में छात्रों को पहली बार कई चीजें नई मिलेंगी। इसमें छात्रों को 100 अंकों के प्रश्नों में 20 फीसद अधिक विकल्प मिलेंगे। उत्तर पुस्तिका पर भी छात्रों की तस्वीर होगी।

बिहार बोर्ड की ओर से परीक्षा को लेकर केंद्राधीक्षकों के साथ-साथ जिलाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारियों को विशेष निर्देश भी जारी किए गए हैं। सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को गोपनीय सामग्री उपलब्ध करा दी गई है। बोर्ड ने सभी को स्पष्ट किया है कि उत्तर पुस्तिकाएं एवं ओएमआर शीट हर दिन परीक्षा के बाद डीएम द्वारा बनाए गए स्ट्रांग रूम में जमा कराएंगे।

मैट्रिक परीक्षा में एक बेंच पर दो से अधिक छात्रों को बैठने की अनुमति नहीं होगी। इंटर की तरह मैट्रिक में भी छात्रों को जूता-मोजा पहनकर आने की भी अनुमति नहीं होगी। प्रत्येक 25 परीक्षार्थियों पर एक वीक्षक होंगे। एक रूम में कम से कम दो वीक्षक रहेंगे। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने केंद्राधीक्षकों को निर्देश दिया है कि जिनका प्रवेश पत्र घर पर छूट गया है या भूल गया है, उन्हें भी परीक्षा देने की अनुमति दें। उपस्थिति पत्रक की तस्वीर से पहचान के बाद रौलशीट से सत्यापित कर बैठने की औपबंधिक अनुमति दें।

आपको बता दें कि बीते दो वर्षों से मैट्रिक परीक्षा में 50 फीसद वस्तुनिष्ट प्रश्न पूछे जाते रहे हैं। परीक्षा में 100 अंकों वाले विषयों में 50 प्रश्न पूछे जाते थे। इस वर्ष 100 अंकों वाले विषयों में 60 प्रश्न वस्तुनिष्ठ पूछे जाएंगे, लेकिन छात्रों को इसमें महज 50 के ही जवाब देने होंगे। यदि अधिक जवाब देते हैं तो पहले 50 प्रश्नों के आधार पर मार्किंग होगी। साथ ही बता दें कि प्रदेश में इंटर की परीक्षा चल रही है, जो पूरी तरह कदाचारमुक्त हो रही है। इस बार इंटर की परीक्षा में भी काफी बदलाव किए गए हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

CM नीतीश पर बोलीं राबड़ी देवी, कहा- उनका मन पलटता है तो भी RJD स्वीकार नहीं करेगी

PATNA: मंगलवार को बिहार में NRC लागू नहीं