पटना कलेक्ट्रेट के नये भवन के निर्माण का रास्ता साफ, आदेश जारी, खर्च होंगे 153.53 करोड़ रुपए

[ad_1]

PATNA : पटना समाहरणालय का निर्माण कार्य विश्वकर्मा पूजा के बाद शुरू होगा। पटना हाईकाेर्ट ने इसकी अनुमति दे दी है। समाहरणालय हेरिटेज बिल्डिंग है या नहीं, यह मामला एक साल पटना हाईकाेर्ट में चल रहा था। एक संस्था इनटैक्ट ने इसे हेरिटेज बिल्डिंग बताते हुए इसे ताेड़ने पर राेक लगाने की मांग करते हुए मामला दर्ज कराया था। हाईकाेर्ट के निर्देश पर राज्य सरकार ने कला संस्कृति विभाग के प्रधान सचिव रवि परमार के नेतृत्व में अरवन हेरिटेज कमीशन गठित कर जांच कराई। कमीशन से अध्ययन और जांच के बाद संस्था के दावे को खारिज कर दिया। उसकी रिपोर्ट के आधार पर हाईकाेर्ट ने निर्माण कार्य शुरू करने की अनुमति दे दी है। हाईकाेर्ट की अनुमति मिलने के बाद डीएम कुमार रवि ने भवन निर्माण के कार्यपालक अभियंता पवन कुमार को कार्य जल्द शुरू कराने का निर्देश दिया है। निर्माण कार्य 153 करोड़ 53 लाख 53 लाख 14 हजार 509 रुपए की लागत 25 महीने में पूरा होगा। इसका टेंडर हो गया है। दो-तीन दिनों के अंदर रांची की एजेंसी को वर्क ऑर्डर दिया जाएगा।

अधिकारियों और कर्मियों के साथ आमलोगों की गाड़ियों की पार्किंग के लिए पर्याप्त जगह की व्यवस्था हाेगी है। वर्तमान नक्शे के मुताबिक एकसाथ 445 गाड़ियाें की पार्किंग की व्यवस्था हाेगी। इसमें 200 गाड़ियों की ओपन पार्किंग और 240 की बेसमेंट पार्किंग शामिल है। भवन भूकंपरोधी होगा। भवन से उत्तर तरफ गंगा है। सभी जगह बड़ी खिड़कियां रहेंगी। इससे दिन में पर्याप्त रोशनी ताे मिलेगी ही गंगा के दर्शन भी हाेंगे। निर्माण कार्य काे लेकर समाहरणालय के ज्यादातर कार्यालयाें को हिंदी भवन सहित अन्य जगहों पर शिफ्ट किया जा चुका है। डीएम हिंदी भवन स्थित कार्यालय में बैठकर कार्य का संचालन कर रहे हैं। लेकिन, अनुमंडल कार्यालय, नजारत, जिला परिषद सहित अन्य कार्यालय पुराने समाहरणालय परिसर में ही चल रहे हैं। इन्हें दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। विकास भवन को तोड़ने की योजना नहीं है। इस कारण उप विकास आयुक्त का कार्यालय विकास भवन में चलेगा।

नए भवन में 39 विभागाें काे जगह मिलेगी। सबसे टॉप फ्लोर पर डीएम का चैंबर होगा। डीडीसी और एसडीओ के कार्यालय का अलग से इंट्री गेट होगा। जिला परिषद के कार्यालय का भी अलग से इंट्री गेट होगा। आगे 3484 वर्गफीट में गार्डेन हाेगा। तीन काॅन्फ्रेंस हॉल बनेंगे। छत पर सोलर पैनल लगेगा।

[ad_2]

Source link

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.