स्वामी ने राजीव गांधी को दिया राम मंदिर निर्माण का श्रेय, कहा- PM मोदी का कोई योगदान नहीं

स्वामी ने राजीव गांधी को दिया राम मंदिर निर्माण का श्रेय, कहा- PM मोदी का कोई योगदान नहीं

New Delhi: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण (Ram mandir ayodhya) में भूमि पूजन की तैयारी जोरों शोरों से हैं. हर दिन रामभक्तों में उत्साह बढ़ रहा है. इस दिन को खास बनाने के लिए रामभक्त पूरी कोशिशों में लगे हुए हैं. हर कोई राम मंदिर निर्माण का श्रेय पीएम मोदी को दे रहे हैं.

पीएम मोदी को धन्यवाद देने का सिलसिला कम ही नहीं रहा है. वहीं, भूमि पूजन में भी बेहद कम और खास लोगों को ही निमंत्रण भेजा गया है. एक तरफ जहां लोग पीएम मोदी को राम मंदिर निर्माण का सारा श्रेय दे रहे हैं तो वहीं, भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी (subramanian swamy) का कुछ और ही कहना है.  सुनिए स्वामी का इंटरव्यू-

पीएम मोदी का राम मंदिर निर्माण में कोई योगदान नहीं

सुब्रमण्यम स्वामी का कहना है कि- राम मंदिर निर्माण में पीएम मोदी का कोई योगदान नहीं है, उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे ये कहा जा सके कि राम मंदिर पर फैसला उनकी वजह से आया हो. स्वामी ने ये बयान एक न्यूज चैनल में इंटरव्यू के दौरान कही. उन्होंने कहा कि- राम मंदिर को लेकर हमने  सभी तर्क और बहस की..सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया, जिसे मंदिर के निर्माण के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के लिए एक कारक कहा जा सकता है.

राजीव गांधी का दिया श्रेय

स्वामी ने कहा कि- जिन लोगों ने राम मंदिर निर्माण में काम किया उनमें राजीव गांधी, पीवी नरसिम्हा और अशोक सिंहल का नाम शामिल है. उन्होंने कहा कि- वाजपेयी ने भी इसमें अडं’गा डाला था. अगर राजीव गांधी दोबारा पीएम बनते तो राम मंदिर पर फैसला कब का हो चुका होता. राजीव गांधी ने विवा’दित स्थल का ताला खुलवाया था और शिलान्यास की अनुमति दी थी. लेकिन अचानक उनके नि’धन से सबकुछ बदल गया.

उन्होंने ये भी कहा कि- पांच साल से राम सेतु की फाइल उनकी टेबल पर पड़ी हुई है, लेकिन अभी तक उसपर साइन नहीं किया गया है. मैं कोर्ट जाकर आदेश निकलवा सकता हूं, लेकिन बुरा लगता है, जब अपनी ही पार्टी की सरकार हो और कोर्ट जाना पड़े.. .उन्होंने भूमि पूजन में भेजे गए निमंत्रण को लेकर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि- जिन लोगों को असल में निमंत्रण जाना चाहिए था, उन्हें नहीं गया. बता दें कि राम मंदिर भूमि पूजन के लिए स्वामी को न्योता नहीं दिया गया. उन्होंने साफ कहा कि अगर न्योता मिलता भी तो वह भूमि पूजन में नहीं जाते.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *