अरबपति निकला बिहार का घूसखोर अधिकारी, नोट गिनने की मशीन मिली, 1 बीघा में है घर

PATNA : उत्पाद अधीक्षक के घर नोट नहीं… नोट गिनने की मशीन मिली, 1 बीघा में है घर, अविनाश प्रकाश के पटना, खगड़िया व मोतिहारी के ठिकानों पर एसवीयू का छापा : आय से अधिक संपत्ति के मामले में स्पेशल विजिलेंस यूनिट(एसवीयू) ने बुधवार को मोतिहारी(पूर्वी चंपारण) के उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश के ठिकानों पर छापेमारी कर करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का खुलासा किया है और उससे संबंधित दस्तावेज जब्त किए हैं। दिलचस्प यह रहा कि एसवीयू की इस कार्रवाई में अविनाश प्रकाश के ठिकानों से कैश तो हाथ नहीं लगा लेकिन नोट गिनने की मशीन जरूर बरामद की गई है। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि उनके कैश का फ्लो कैसा रहा होगा। खासबात यह है कि बिहार में संभवत: यह पहली कार्रवाई है जिसमें किसी लोकसेवक के घर से नोट गिनने की मशीन बरामद की गई हो।

एसवीयू को आशंका है कि उत्पाद अधीक्षक के खिलाफ पहले से जांच चल रही थी और इसको ध्यान में रखकर कैश और जेवर घर से हटा दिए गए होंगे। हालांकि एसवीयू की इसका पता लगाने में जुटी है। एसवीयू ने उत्पाद अधीक्षक के खिलाफ आय से अधिक 9405000 रुपए की संपत्ति अर्जित करने के मामले में मुकदमा दर्ज कर बुधवार को पटना, खगड़िया और मोतिहारी स्थित ठिकानों पर छापेमारी की। फुलवारीशरीफ के कुरकुरी रोड में करीब एक बीघा जमीन में फार्म हाउसनुमा है। मकान भी काफी शानदार और सारी सुविधाओं से सुसज्जित है। एसवीयू के अनुसार इस घर में एक खूबसूरत बगान, 10 गायों का एक खटाल और कई नौकर-चाकर भी हैं। खगड़िया में एक आलीशान मकान है और एक जेसीबी बरामद की गई है। इसके अलावा पटना में एक प्लैट खरीदने का एग्रीमेंट पेपर मिला है।

पिता के नाम पर 48.5 लाख की 800 डिसमिल जमीन
उत्पाद अधीक्षक के पिता के नाम से 20 प्लॉट है जिसका रकबा 800 डिसमिल और कीमत करीब 48.5 लाख है। यह वर्ष 2017-18 में खरीदी गई है। अविनाश पर आरोप है कि उन्होंने सेवा में रहते हुए नाजायज ढंग से अकूत संपत्ति अर्जित की है जो प्राप्त वेतन एवं अन्य ज्ञात स्रोतों की तुलना में अधिक है।

अविनाश प्रकाश पर मनी लॉन्ड्रिंग का भी आरोप
एसवीयू के अनुसार उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश ने अपने सेवा काल के दौरान आय से वैध स्रोत से अधिक धनार्जन कर पटना एवं अन्य स्थानों पर अचल संपत्ति बनाई है। इसके लिए उन्होंने परिजनों व मित्रों तथा अन्य के माध्यम से मनी लौंड्रिंग कर काले धन को सफेद बनाने का भी प्रयास किया है।

कई जगह निवेश करने व इंश्योरेंस के दस्तावेज भी
एसवीयू के अनुसार अविनाश प्रकाश के पास अपनी दो जीसेबी मशीन, एक इनोवा गाड़ी भी मिली है। अविनाश की करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का पता चला है और इनके व उनके परिजनों के नाम से बैंक व एलआईसी में कई लाख के निवेश की जानकारी मिली है। तलाशी के दौरान 2 पासपोर्ट, एचडीएफसी बैंक में 5 पासबुक, इलाहाबाद बैंक में 1 पासबुक, एसबीआई में 5 पासबुक, यूनियन बैंक में 3 पासबुक और यूनियन बैंक में 1 पासबुक का पता चला है। इसके अलावा एचडीएफसी एलआईसी में 3 इश्योरेंस, टाटा एआईजी में 1 इश्योरेंस से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए हैं। एक टैक्सी का रजिस्ट्रेशन पेपर भी मिला है। उत्पाद अधीक्षक की पत्नी के नाम से कुल 41 डिसमिल में निर्मित तीन फ्लैट जिसकी कीमत करीब 8.25 लाख रुपए है का पता चला है।

  1. पत्नी के नाम से 3 फ्लैट, पिता के नाम से 20 प्लॉट के दस्तावेज मिले
  2. 10 गायों का खटाल और खूबसूरत बागान भी बना रखा है उत्पाद अधीक्षक
  3. 15 पासबुक, 1 लॉकर, दो पासपोर्ट, टैक्सी का रजिस्ट्रेशन पेपर बरामद

क्या-क्या बरामद हुआ
आय से अधिक 9405000 रुपए की संपत्ति के मामले में केस दर्ज

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WHATTSUP, YOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 


प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *