नीतीशजी मेरे बेटे को बचा लीजिए, 16 करोड़ का लगाना है इंजेक्शन, मां-बाप के पास नहीं है पैसा

बच्चे को बचाने के लिए मां की गुहार:SMA बीमारी से पीड़ित है बच्चा, 16 करोड़ का लगाना है इंजेक्शन, स्वास्थ्य मंत्री ने PA के पास भेजा, PA बोला- IGIMS में क्यों नहीं दिखाया

SMA (स्पाइनल मस्कुलर स्ट्राफी) बीमारी से पीड़ित 10 माह के अयांश की मां ने बिहारवासियों से मदद की गुहार लगाई है। कहा है- ‘जीन से होने वाली इस बीमारी का इलाज 16 करोड़ रुपए के इंजेक्शन की एक डोज से संभव है। पैसा नहीं है। अगर आप लोग मदद कर देंगे तो मेरा बेटा बच सकता है’। पटना के रुपसपुर के रहने वाले परेशान अयांश के पिता आलोक कुमार सिंह ने 18 जुलाई को जनता दरबार में बच्चे के साथ जाकर मदद मांगने के लिए आवेदन दिया, लेकिन अब तक कोई जवाब नहीं आया। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से अयांश की मां नेहा सिंह ने संपर्क किया और बेटे की जिंदगी के लिए भीख मांगी। मंगल पाडेय ने PA का नंबर दे दिया। PA से बात हुई तो उसने कहा कि IGIMS पटना में क्यों नहीं इलाज कराए।

नेहा का कहना है कि डॉक्टरों ने इस बीमारी में 18 माह से 2 साल की उम्र बताई है। इसमें मसल्स गल जाती और सांस लेने तक की क्षमता नहीं रह जाती है। नेहा सिंह PM नरेंद्र मोदी से लेकर CM नीतीश कुमार तक से गुहार लगा रही हैं। वह बिहार के हर व्यक्ति से हाथ जोड़कर बेटे की जिंदगी के लिए भीख मांग रही हैं। मां का कहना है कि अयांश की जिंदगी के लिए बिहार के हर घर से मदद चाहिए, क्योंकि उसे अब बिहार और देश की जनता ही बचा सकती है।

आलोक और नेहा की दो संतान हैं। अयांश छोटा है और 6 साल की मानस्वी बड़ी है। मानस्वी पूरी तरह से स्वस्थ है, लेकिन अयांश जन्म के दो माह बाद से ही SMA बीमारी का बिहार का पहला मरीज बन गया। आलोक सिंह और नेहा का कहना है कि अयांश 29 सितंबर 2020 को जन्मा तो पूरी तरह से स्वस्थ था। दो माह बाद से ही उसको परेशानी होने लगी। हाथ पैर का मूवमेंट थोड़ा कम होने लगा और गर्दन में भी ताकत खत्म होने लगी।

पटना से लेकर बंगलुरु तक इलाज

अयांश का पहले पटना में इलाज कराया गया, फिर डॉक्टर ने उसे बंगलुरु रेफर कर दिया। इस बीच देश के कई बड़े संस्थानों में इलाज कराया गया, लेकिन बीमारी पकड़ में नहीं आई। बंगलुरु में एक हॉस्पिटल में टाइपोरोनिया सीपी डिटेक्ट किया गया। डेढ़ माह तक बंगलुरु में रहकर इलाज कराया, लेकिन इससे भी लाभ नहीं हुआ। इस दौरान 16 लाख से अधिक खर्च हो गया, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। जब हालत बिगड़ने लगा तो बंगलुरु के NIMHANS में अयांश का इलाज कराया गया। डॉक्टरों को SAM बीमारी की आशंका हुई और जांच कराई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद मां बाप की हालत खराब हो गई और वह कई दिनों तक सदमे में चले गए। इलाज में सारा पैसा खत्म हो गया है और अब SAM के इलाज के लिए 16 करोड़ रुपए के इंजेक्शन की कहां से व्यवस्था करें। आलोक सिंह का कहना है कि वह ITI चलाते हैं, लेकिन कोरोना काल में सब बंद है। कमाई कुछ भी नहीं और अब तो जमा पूंजी भी खत्म हो गई।

यहां मदद करें

आप भी अयांश को मदद कर सकते हैं। उनके पिता का कहना है कि सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में अयांश सिंह के नाम से खाता खुलवाया गया है। उसकी जिंदगी बचाने के लिए इस खाते पर मदद की राशि भेज सकते हैं। नाम- Aayansh singh, खाता संख्या- 5121176175, IFSC-CBIN0282384, बैंक का नाम- Central Bank of India

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR ह्वाटसअप ग्रुप के लिए यहां Whattsup ट्विटर के लिए यहां TWITTER क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *