कोरोना का टीका लेने पहुंचे लोग तो डाक्टर ने लगाया कुत्ता काटने वाला इंजेक्शन, 3 की बिगड़ी हालत

DAILY BIHAR : उत्तर प्रदेश के शामली से स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. जहां एक ओर कोरोना टीकाकरण अभियान के लिए प्रदेश सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर लोगों को संक्रमण के प्रकोप से बचाने में जुटी है. वहीं, शामली के एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारी कोरोना और रेबीज के वैक्सीन में ही अंतर नहीं समझ पा रहे हैं. दरअसल, यहां कोरोना वैक्सीन लगवाने गई तीन वृद्ध महिलाओं को रेबीज का टीका लगा दिया. एक महिला की हालत गंभीर होने के बाद स्वास्थ्य केंद्र की लापरवाही उजागर हुई. जिसे लेकर परिजनों ने जमकर हंगामा किया. साथ ही सीएमओ से कार्रवाई की मांग की.

क्या है मामला? मामला शामली के कांधला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है. यहां गुरुवार को कांधला निवासी सरोज (70 वर्षीय), अनारकली (72 वर्षीय) और सत्यवती (60 वर्षीय) सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना की पहली वैक्सीन लगवाने पहुंची थी. आरोप है कि स्वास्थ्य केंद्र पर कर्मचारियों ने बाहर से 10-10 रुपये की खाली इंजेक्शन मंगवाई. फिर महिलाओं को रेबीज का टीका लगा कर घर भेज दिया. इसी बीच सरोज की हालत बिगड़ गई. उन्हें तेज चक्कर आने लगे और घबराहट शुरू हो गई. परिजन आनन-फानन में प्राइवेट डॉक्टर के पास ले गए. इसके बाद डॉक्टर को स्वास्थ्य केंद्र की पर्ची दिखाकर कोरोना वैक्सीन लगवाने का हवाला दिया. लेकिन डॉक्टर पर्ची देखकर हैरान रह गया.

परिजनों ने की सीएमओ से कार्रवाई की मांग : डॉक्टर ने महिला के परिजनों को बताया कि स्वास्थ्य केंद्र पर सरोज को रेबीज का टीका लगाया गया है. तीनों महिलाओं के परिजनों ने मामले की जांच पड़ताल की. जिसके बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों की पोल खुल गई. मामले को लेकर पीड़ित महिलाओं के परिजनों ने जमकर हंगामा किया. परिजनों ने सीएमओ संजय अग्रवाल के पास मामले की शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की.

डीएम ने दिए जांच के आदेश : वहीं, पूरे मामले में डीएम जसजीत सिंह ने बताया,”कांधला सीएचसी का एक प्रकरण सामने आया है. उसके संबंध में एक एसीएमओ और सीएमओ को नामित किया गया है, जो पीड़ित पक्ष का बयान लेंगे और अस्पताल जाकर पूरी जांच करेंगे. जो भी इस प्रकरण में दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.”

पहली बार नहीं हुई है ऐसी लापरवाही : बीते दिनों कानपुर देहात के मड़ौली से भी लापरवाही का एक मामला सामने आया था. जहां पीएचसी में कमलेश देवी नाम की एक महिला टीका लगवाने आईं. जहां नर्स ने फोन पर बात करते-करते महिला को दो बार टीका लगा दिया. इस बारे में जब महिला ने नर्स को बताया तो उसने अपनी गलती मान ली. फिर जब महिला कमलेश देवी के घरवालों को यह बात पता चली, तो उन्होंने बवाल कर दिया.

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *