चमकी बुखार पर बड़ा खुलासा, गरीबी से जूझ रहे थे 354 प्रभावित परिवार

PATNA : एईएस प्रभावित परिवारों के सोशियो इकोनोमिक सर्वे की रिपोर्ट पहली बार सार्वजनिक हुई है। रिपोर्ट से सामने आये सच पीड़ादायक तो हैं ही, सरकारी सिस्टम पर कई सवाल भी खड़े करते हैं। अधिकारियों व जीविका की टीम ने जिले के सर्वाधिक एईएस प्रभावित पांच प्रखंडों का सर्वे की थी। रिपोर्ट में यह बात सामने आयी है कि 538 परिवारों में से 354 परिवार को साल में कई बार पर्याप्त खाना न होने की वजह से भूखे सोना पड़ता था। 142 परिवारों के पास राशन कार्ड *नहीं है।

dailybihar.com, dailybiharlive, dailybihar.com, national news, india news, news in hindi, ।atest news in hindi, बिहार समाचार, bihar news, bihar news in hindi, bihar news hindi NEWS #ChildrenKilledByEncephalitisinBihar #SKMCH #savebiharchild #CHAMKIBUKHAR

जिन 538 परिवारों पर एईएस कहर बनकर टूटा था, उनमें से 242 परिवार महादलित समुदाय से आते हैं। सर्वे रिपोर्ट ने जिले में विकास योजनाओं के कार्यान्वयन की पोल खोलकर रख दी है। सरकार ने अधिकारियों से अब इनपर जवाब मांगते हुए, तीन माह के भीतर इन्हें सरकारी सुविधायें मुहैया कराने का आदेश दिया है। एईएस प्रभावित परिवारों की सामाजिक व आर्थिक स्थिति काफी दयनीय मिली।

इसके बावजूद कि वे योजनाओं के लिए योग्य लाभुक थे, पर उन्हें योजना का लाभ नहीं दिया गया। अब सरकार ने स्वास्थ्य विभाग, आईसीडीएस, खाद्य आपूर्ति विभाग सहित तमाम विभाग को सर्वेक्षित परिवारों को देय लाभ पहुंचाने का निर्देश देते हुए जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *