दारोगा के ट्रांसफर पर रो पड़े फुटपाथ के अनाथ बच्चे, कहा-पुलिस अंकल! प्लीज हमें छोड़ के मत जाइए

वाराणसी में चौकी प्रभारी का ट्रांसफर होने पर बोले बच्‍चे – पुलिस अंकल! प्लीज हमें छोड़ के मत जाइए : पुलिस अंकल! प्लीज हमें छोड़ के मत जाइए। आम तौर पर बच्चों को डराने के लिए कहा जाता है कि पुलिस अंकल को बुला रहे हैं। लेकिन यहां अंबिया मंडी चौकी प्रभारी अनिल कुमार मिश्रा इन गरीब बच्चों के ऐसे मित्र बन गए हैं कि ट्रांसफर होने पर यह बच्चे उन्हें जाने ही नहीं दे रहे हैं। इन मासूम बच्चों का कहना है आप जो भी होमवर्क देंगे हम उसे पूरा करके दिखाएंगे। लेकिन आप हमें छोड़ के मत जाइए। दारोगा अनिल कुमार मिश्रा ने बच्चों के मन में अपनी अलग ही छवि गढ़ी है।

अनिल कुमार मिश्रा अपनी चौकी में रोजाना शाम के समय बच्चों के लिए पाठशाला लगाते थे। इस पाठशाला में वह क्षेत्र के बच्चों को न सिर्फ पढ़ाते थे बल्कि उन्हें स्वाधीनता संग्राम में अंग्रेजों से लोहा लेने वाले अमर शहीद क्रांतिकारियों की कहानियां भी सुनाते थे। जब पुलिस चौकी से उनकी विदाई की बेला आई तो वह सबको रुला गए। कोतवाली से कपसेठी थाना ट्रांसफर होते ही यह बच्चे भावुक हो गए। दारोगा के जाने से बच्चों के आंखों की कोरें नम थी।

सातवीं कक्षा का छात्र पंकज तो दारोगा अंकल को पकड़कर रोते हुए बोला ‘दारोगा अंकल आप न जाएं, हम कभी शरारत नहीं करेंगे’। कक्षा छह की छात्रा ने उन्हें रोकते हुए कहा, सर आप न जाएं, मैं रोज चौकी के पाठशाला आऊंगी और होमवर्क भी पूरा करूंगी।

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *