सोनपुर मेला का हुआ रंगारंग आगाज़, अनुराधा पौडवाल की गीतों पर रात भर झूमते रहे लोग

हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला बिहार की सांस्कृतिक धरोहर, इसके गौरव को सुरक्षित रख संवारने की दिशा में सरकार प्रयत्नशील, सोनपुर मेला : डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने 32 दिवसीय मेले का किया उद््घाटन, प्राचीन धार्मिक स्थल पर्यटन स्थल के रूप में होंगे डेवलप, राजस्व भी बढ़ेगा

झारखंड बंटवारे के बाद बिहार के लोगों को चिढ़ाया जा रहा था। मखौल में कहा जा रहा था कि बिहार में बचा क्या? बचा है तो नदी का पानी व बालू। कल-कारखाने सब बंद हो चुके थे। बिहार के लिए यह गर्व की बात है कि बुद्ध, महावीर, गुरुगोविंद सिंह की तपोभूमि एवं जन्मभूमि के साथ साथ हरिहर क्षेत्र सोनपुर जैसा मेला भी बिहार के हिस्से आया यह कम गौरव की बात नहीं है। हमारे राज्य में हरिहरनाथ का वह मंदिर है जहां भगवान हरि और हर एक साथ विराजते हैं। उन्होंने कहा कि वैशाली में 315 करोड़ की लागत से बुद्ध सम्यक दर्शन संग्रहालय का निर्माण हो रहा है। धार्मिक-सांस्कृतिक स्थलों को पर्यटन के रूप में विकसित कर राजकोष को समृद्ध करने की दिशा में प्रयासरत है।

डॉल्फिन देखने के लिए पर्यटकों को उपलब्ध कराई जाएगी बोट
मोदी ने कहा कि सोनपुर के गंडक नदी में पाए जाने वाले डॉल्फिन को देखने के लिए पर्यटकों के लिए पर्यटन विभाग से बातचीत करके बहुत जल्द एक मोटर बोट उपलब्ध करा दिया जाएगा। घाटों का सौन्दर्यीकरण का काम चल रहा है। हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेले के मान में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

सांस्कृतिक धरोहर को किया जाएगा समृद्ध : पर्यटन मंत्री
पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने संबोधित करते हुए कहा कि पर्यटन विभाग सांस्कृतिक विरासत को जिंदा रखने के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने बिहार को भारतीय संस्कृति एवं सोनपुर को बिहार की सांस्कृतिक विरासत का स्तंभ बताया। यहां आने वाले पर्यटकों एवं सैलानियों के लिए व्यापक व्यवस्था किया गया है । किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *