अभी-अभी: मालगाड़ी ने बिहार-यूपी के 14 मजदूरों को कु’चला, थककर पटरी पर सो गए थे लोग

मुंबई: पैदल ही यूपी के लिए निकले दिहाड़ी मजदूर, इस वजह से उठाया ये कदम
देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का तीसरा चरण शुरू है. इस दौरान अगर सबसे ज्यादा कोई परेशान है, तो वो है देश का मजदूर वर्ग. केंद्र और राज्य सरकारों की तमाम कोशिशों के बाद भी देश भर में मजदूरों का पलायन बदस्तूर जारी है. मुंबई में दिहाड़ी मजदूर पैदल ही उत्तर प्रदेश के लिए निकल चुके हैं. दरअसल कोविड 19 के चलते पिछले करीब डेढ़ महीने से पूरे देश मे लॉकडाउन लगाया गया है, ऐसे में इन दिहाड़ी मज़दूरों को कोई काम नहीं मिल रहा है. अब ये लोग पैदल ही अपने गांव के लिए निकल पड़े हैं. ये लोग अपने गांव कब पहुंचेंगे, कैसे पहुंचेंगे, इन्हें कुछ पता नहीं है, इन्हें बस एक ही बात याद है, मुझे अपने घर जाना है. हालांकि यह कोई पहला मौका नहीं है, जब ये मजदूरों का जत्था इस तरह से अपने गांव की तरफ चल पड़ा हो.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक ट्रेन हा’दसा हुआ है। औरंगाबाद-जालना रूट पर एक मालगाड़ी की च’पेट में कुछ प्रवासी मजदूर आ गए। हा’दसे में करीब 14 मजदूरों की मौत की खबर है। यह हादसा सुबह 6.30 मिनट पर हुआ है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, हादसे में करीब 14 प्रवासी मजदूरों की मौ’त हुई है। औरंगाबाद में कर्नाड रेलवे स्टेशन के पास यह हादसा हुआ है। सभी महाराष्ट्र से छत्तीसगढ़ जा रहे थे। अभी विस्तृत खबर की प्रतीक्षा है।

दूसरी तरफ भारतीय रेलवे ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने एक मई से अब तक 189 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं और देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे 1.90 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह नगर पहुंचाया है। रेलवे ने कहा कि बृहस्पतिवार को 40 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं जिनमें 1,200 श्रमिकों को लेकर दिल्ली से मध्य प्रदेश के छतरपुर तक जाने वाली पहली ट्रेन भी शामिल है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.