पटना में वाहन चेकिंग पर लगी रोक, चलान काटने का मेगा अभियान बंद

वाहन चेकिंग अाैर चालान काटने का मेगा अभियान शुक्रवार से बंद हाे गया। यह अभियान 6 से 12 सितंबर तक ही था। इस बीच बाइक व कार चालकाें काे जिला प्रशासन ने कुछ राहत दी है। चेकिंग के दौरान बाइक चलाने वाले बिना हेलमेट के पकड़े गए तो उन्हें यह वादा करना होगा कि हेलमेट खरीद लेंगे। इस शर्त पर उन्हें एक हजार का जुर्माना नहीं देना होगा। वहीं अगर बाइक व कार का प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट फेल हो गया है तो उन्हें वादा करना होगा कि वे जल्द वाहन की जांच कराकर प्रदूषण सर्टिफिकेट ले लेंगे तो उन्हें भी 10 हजार फाइन नहीं भरना होगा।

 

जिला प्रशासन राजधानी के कुछ स्थानों पर वाहन एजेंसी के द्वारा हेलमेट रखेगा जहां से वाहन चालकों को खरीदने को कहा जाएगा। वैसे बाइक चालक कहीं से भी हेलमेट खरीदने का स्वतंत्र हैं। इसी तरह प्रशासन शहर के कुछ चयनित स्थानों पर प्रदूषण जांच केंद्र भी खुलवाएगा जहां से वाहन चालक वाहनों की जांच कराने के बाद पॉल्युशन अंडर कंट्रोल का सर्टिफिकेट ले लेंगे। जिला प्रशासन ने शुक्रवार की रात अहम बैठक कर ये फैसले लिए। बैठक में प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर, डीएम कुमार रवि, ट्रैफिक एसपी समेत कई अधिकारी मौजूद थे।

ट्रैफिक नियमावली का पालन करने के लिए चलेगी जागरुकता मुहिम : जिला प्रशासन लोगों को ट्रैफिक नियमावली का पालन करने के लिए जागरुकता अभियान भी चलाएगा। हेलमेट और पॉल्युशन को छोड़ डीएल, आरसी के नहीं रहने और इंश्योरेंस फेल रहने, सीट बेल्ट नहीं बांधने पर नए कानून के तहत जुर्माना देना होगा। इसमें कोई छूट नहीं दी गई है। यही नहीं 6 से 12 सितंबर तक प्रशासन ने चेकिंग के लिए जो मेगा अभियान शुरू किया था, वह बंद हाे गया है। पहले की तरह नॉर्मल चेकिंग होगी।

मेगा वाहन चेकिंग 6 से 12 सितंबर तक था, वह अब खत्म हो गया है। वाहन चेकिंग में तैनात 200 जवानों को अब अतिक्रमण हटाओ अभियान में लगाया जाएगा। आनंद किशोर, प्रमंडलीय आयुक्त

दरअसल 6 सितंबर से ही वाहन चेकिंग के दौरान वाहन चालकों व पुलिस के बीच कई बार भिड़ंत हो चुकी है। गुरुवार को एग्जीबिशन रोड पर वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस ने लोगों के साथ जो बदसलूकी की अाैर मारपीट करने के साथ गिरफ्तार 11 लोगों को जेल भेज दिया, इससे पुलिस व प्रशासन की किरकिरी हुई। समझा जा रहा है कि इसी को देखते हुए प्रशासन ने वाहन चालकों को कुछ राहत दी है।

बिना हेलमेट पकड़े गए बाइक सवार को हेलमेट खरीदने का वादा करना होगा। पॉल्युशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट बनाने का वादा करने पर उनसे जुर्माना नहीं लिया जाएगा। शहर के कुछ स्थानों पर हेलमेट व प्रदूषण जांच केंद्र खोला जाएगा। ट्रैफिक रूल्स से अवगत कराने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा। कुमार रवि, डीएम, पटना

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *