सच हुआ CM नीतीश का सपना, बरौनी बिजलीघर बनकर तैयार, दो यूनिट से बिहार को मिलेगी 360 मेगावाट बिजली

PATNA : राख रखने की जगह न होने से नहीं हो रहा चालू290 एकड़ जमीन पर विवाद, पटना डीएम ने गठित की जांच टीम

एनटीपीसी बरौनी बिजलीघर की यूनिट 7 और 9 बन कर तैयार है। यूनिट 7 से 110 मेगावाट और यूनिट 9 से 250 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। इस बिजलीघर के उत्पादन होने वाली पूरी बिजली बिहार को मिलेगी। इन दोनों यूनिट को चालू करने के लिए प्लांट से निकलने वाले राख को रखने के लिए जगह की आवश्यकता है।

इसके लिए 290 एकड़ जमीन पर ऐश डाइक का निर्माण चल रहा था। लेकिन, किसानों और स्थानीय लोगों के विरोध के कारण काम ठप हो गया है। जमीन विवाद काे सुलझाने के लिए पटना डीएम कुमार रवि ने तीन सदस्यीय जांच टीम गठित की है। यह जमीन पटना जिले के मोकामा अंचल के कसहा दियारा में है।

एनटीपीसी बरौनी के मुख्य महाप्रबंधक मुनीष जौहरी ने कहा कि 15 दिसंबर, 2018 को बिहार स्टेट पावर जेनरेशन कंपनी द्वारा बरौनी बिजलीघर को हस्तांतरित किया गया था। इसकी कुल उत्पादन क्षमता 720 मेगावाट है। वर्तमान समय में यूनिट 6 से 110 मेगावाट और यूनिट 8 से 250 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है।

दो यूनिट से बिहार को मिलेगी 360 मेगावाट बिजली : नई यूनिट को चालू करने और पुराने यूनिट से उत्पादन जारी रखने के लिए ऐश डाइक का निर्माण जरूरी है। एेस डाइक के निर्माण के लिए 290 एकड़ जमीन का अधिग्रहण बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी ने किया था। यह सरकारी जमीन है। एनटीपीसी को अन्य जमीन के साथ ऐश डाइक के निर्माण के लिए 290 एकड़ जमीन दी गयी है। इस पर ऐश डाइक का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद ही नई यूनिट चालू होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.