रोपनी के लिए भदोही-पंजाब जाने लगे बिहारी मजदूर, कहा-साहेब कर्ज में डूबे है, पेट भरना मुश्किल है

अभी प्रवासी मजदूर आए नहीं कि फिर शुरू हो गया पलायन : लॉकडाउन के बाद जिंदगी पटरी पर लाैटने लगी है। सोमवार को पहली बार आनंद विहार के लिए खुली 15273 अप सत्याग्रह एक्सप्रेस ट्रेन बगहा रेलवे स्टेशन पर रुकी तो पंजाब में धान की रोपनी करने के लिए घर से निकले मजदूरों का जत्था ट्रेन में सवार हुआ।

दिल्ली जा रहे कई लोग भी इस ट्रेन में चढ़े। लुधियाना जा रहे बगहा-2 प्रखंड की सेमरा कटकुईया पंचायत में महुअर गांव के नारायण महतो, लालमोहन राय, वशिष्ठ महतो, संतोष गिरि ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान घर पर बैठे रहने से वे कर्ज से दब गए हैं। परिवार के भरण पोषण के लिए जान हथेली पर रखकर वे धान रोपनी के लिए जालंधर जा रहे हैं।

इसी ट्रेन को पकड़ने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंची एक नर्तकी ने बताया कि वह दिल्ली की रहने वाली है। आर्केस्ट्रा में डांसर है। लॉकडाउन के कारण आमदनी के सारे रास्ते बंद हो गए। घर लौटने के लिए कोई साधन भी उपलब्ध नहीं था। हालांकि देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के कुछ ही समय पहले वह बगहा आई थी। अब ट्रेन की सुविधा मिली है तो घर लौट जाना ही उसके लिए इकलौता विकल्प है। रेलवे प्लेटफाॅर्म पर सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग हुई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *