भारत में कोरोना का कोहराम, फरवरी 2021 तक आधी आबादी होगी संक्रमित, मोदी सरकार की चेतावनी

देश में कम नहीं हुआ है. जानकारी के अनुसार भारत में अगले साल फरवरी (february 2021) तक कम से कम आधी आबादी के कोरोना से संक्रमित होने की आशंका है. इसका मतलब है कि तब तक कम से कम 65 करोड़ भारतीय कोरोना से संक्रमित हो चुके होंगे. यह अनुमान भारत सरकार की ओर से बनाए गए विशेषज्ञों के पैनल का है. पैनल के एक प्रमुख सदस्य ने यह जानकारी दी है. हालांकि, पैनल का यह भी कहना है कि इतनी बड़ी आबादी के संक्रमित होने से महामारी की रफ्तार थमने में मददगार साबित होगी.

इधर, दुनियाभर में कोरोना वायरस के कहर के बीच संक्रमित लोगों की कुल संख्या चार करोड़ से अधिक हो गयी है. हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि यह केवल एक हिस्सा है और इस महामारी का वास्तविक प्रभाव अभी आना बाकी है. इस घातक वायरस से दुनिया भर में लोगों के जीवन और उनके कार्यों को प्रभावित किया है.

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार : जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार सोमवार सुबह संक्रमितों की संख्या चार करोड़ के पार हो गयी. यह विश्वविद्यालय दुनिया भर से कोरोना वायरस संबंधी आंकड़े एकत्र करता है. यह संख्या और अधिक हो सकती है क्योंकि बड़ी संख्या में लोगों में इस वायरस से संक्रमण के लक्षण नहीं हैं. इसके अलावा कई सरकारों ने वास्तविक संख्या नहीं बतायी है. इस घातक वायरस से अब तक 10.1 लाख से अधिक लोगों की मौत होने की पुष्टि हो चुकी है.

सही जानकारी नहीं : विशेषज्ञों का यह मानना है कि वास्तविक संख्या कहीं ज्यादा है. अमेरिका, भारत और ब्राजील ने अब तक सबसे अधिक मामलों की जानकारी दी है. इन देशों में कमश: 81 लाख, 75 लाख और 52 लाख मामले सामने आए हैं. हालांकि हाल के हफ्तों में संक्रमित लोगों की संख्या में वृद्धि यूरोप के कारण हुयी है। यूरोप में संक्रमितों की संख्या में उछाल आया है. यूरोप में अब अब तक इस महामारी से 2,40,000 से अधिक लोगों की मौत होने की पुष्टि हुई है.

डब्ल्यूएचओ ने कहा था: पिछले हफ्ते, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा था कि यूरोप में करीब सात लाख मामलों की साप्ताहिक रिपोर्ट थी और यह क्षेत्र विश्व स्तर पर लगभग एक तिहाई मामलों के लिए जिम्मेदार था. यूरोप में आए नए मामलों में से करीब आधे मामले ब्रिटेन, फ्रांस, रूस और स्पेन से हैं. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रसार पर काबू के लिए यूरोप भर में किए जा रहे नए उपाय “पूरी तरह से आवश्यक” हैं. इटली और स्विट्जरलैंड में मास्क पहनने को अनिवार्य किया गया है वहीं उत्तरी आयरलैंड और चेक गणराज्य में स्कूलों को बंद कर दिया गया है. इसके अलावा बेल्जियम में रेस्तरां और बार बंद कर दिए गए हैं. फ्रांस में कुछ समय के लिए कर्फ्यू और ब्रिटेन के कुछ हिस्सों में सीमित लॉकडाउन लागू किया गया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *