बिहार के बांका में एक और पुल की हुई चोरी, कांवरिया ब्रिज का 70% हिस्सा गैस कटर से काटकर ले गए चोर

बिहार में फिर हुई पुल की चोरी, बांका के कांवरिया ब्रिज का 70% हिस्सा गैस कटर से काटकर ले गए चोर : बिहार के रोहतास जिले में कुछ दिन पहले पुल चोरी की एक घटना ने सबको चौंका दिया था. इस घटना के बाद तो बिहार में जैसे पुल चोरी का सिलसिला ही शुरू हो गया. रोहतास के बाद जहानाबाद और अब बांका से ऐसी ही घटना सामने आई है. जहां चोरों के हौसले इस कदर बुलंद हैं कि वो सरकारी संपत्ति पर ही हाथ साफ कर रहे हैं. बांका में भी 2004 में बना लोहे का पुल चोरी (kanwariya Bridge Theft In Banka) कर लिया गया. यहां भी चोर लोहे के पुल को टुकड़े-टुकड़े कर चोरी कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन को इसकी खबर तक नहीं है.

गैस कटर से काटा गया 70% भागः बांका जिले के कांवरिया पथ पर 2004 में बने लोहे के पुल पर अब चोरों की नजर पड़ गई है. पुल का अधिकतर भाग चोरी हो चुका है. अगर प्रशासन सतर्क नहीं हुआ तो पुल पूरी तरह गायब हो जाएगा. पुल चोरी की ये घटना बांका जिले के चांदन प्रखंड की है. जहां चोरों द्वारा पुल का 70% भाग गैस कटर से काट लिया गया. लेकिन आज तक किसी पंचायत प्रतिनिधि या पुलिस को इसकी जानकारी तक नहीं हुई. ना ही किसी ने पुल चोरी की सूचना पुलिस को दी.

2004 में तत्कालीन डीएम ने कराया था निर्माणः यह पुल कांवरिया पथ के झाझा और पटनिया को जोड़ने के लिए 2004 में तत्कालीन जिला अधिकारी रशीद अहमद के अथक प्रयास से बनवाया गया था. दरअसल 1995 में आई भीषण बाढ़ के समय विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले में कांवरिया को झाझा गांव से पटनिया धर्मशाला जाने के लिए एक बड़े पोखर के बीच से गुजरना पड़ता था. जिसमें अत्यधिक पानी होने के कारण कई बार घटनाएं भी हो जाती थीं. उसी वक्त से यहां एक पुल निर्माण की मांग चल रही थी. कांवरिया की सुविधा को देखते हुए तत्कालीन डीएम द्वारा बेली ब्रिज के तौर पर इस पुलिया का निर्माण कराया गया.

पुल पर पैदल चलना हुआ मुश्किलः पुल निर्माण के बाद बाबा धाम की यात्रा में कांवरिया को काफी आसानी हो गई. बाद में नए कांवरिया पथ के निर्माण हो जाने के बाद यह पुल पूरी तरह उपेक्षित हो गया. साथ ही साथ कुछ गांव तक आने जाने के लिए पक्के पुल का भी निर्माण कर दिया गया. उसके बाद से ही इस लोहे के पुल पर चोरों की नजर गड़ गई. पुल के साइड और फुटपाथ का ज्यादातर हिस्सा चोरी कर लिया गया है. जिसे अब पैदल चलना भी उस पर मुश्किल हो गया है.

नहीं रहेगा पुल का नामोनिशानः बताया जाता है कि कांवरिया पुल का बचा हुआ शेष भाग भी अब धीरे-धीरे चोरों द्वारा काटा जा रहा है. अगर इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो कुछ महीनों में इस पुल का नामोनिशान भी नहीं रहेगा. इस संबंध में थाना अध्यक्ष नसीम खान ने बताया कि कांवरिया पथ पर ऐसे पुल की उन्हें कोई जानकारी नहीं है, ना ही किसी ने आज तक लोहे के पुल के चोरी होने की कोई सूचना दी है. अब उस पर नजर रखी जाएगी.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.