एडमिट कार्ड, कॉपी या ओएमआर में फोटो नहीं हाेने पर भी दे सकेंगे मैट्रिक की परीक्षा : बिहार बाेर्ड

मैट्रिक परीक्षा 2021 के परीक्षार्थी तब भी परीक्षा दे सकेंगे, अगर उनके एडमिट कार्ड, कॉपी या ओएमआर अथवा उपस्थिति पत्रक में फोटो नहीं छपी होगी। बिहार बाेर्ड ने सभी परीक्षा केंद्र के अधीक्षकों को निर्देश दिया है कि एडमिट कार्ड में यदि किसी परीक्षार्थी के फोटो में त्रुटि हो, या किसी अन्य विद्यार्थी की फोटो छप गई हो या फोटो नहीं हो तब भी वे परीक्षा दे सकेंगे। कॉपी, ओएमआर शीट, उपस्थिति पत्रक में भी फोटो नहीं है तब भी परीक्षार्थी को परीक्षा केंद्र से नहीं लौटाया जाएगा। उसका भौतिक सत्यापन कराकर उसे परीक्षा में शामिल कराया जाएगा।

ऐसे परीक्षार्थी जिनके एडमिट कार्ड में फोटो त्रुटि हो उन्हें परीक्षा में शामिल कराए जाने से पहले भौतिक सत्यापन कराया जाएगा। इसके लिए परीक्षार्थी को पंजीयन कार्ड और एडमिट कार्ड के साथ आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट अथवा फोटोयुक्त बैंक पासबुक में से कोई एक पहचान पत्र लाना होगा। इन दस्तावेजों में से किसी एक की मूल प्रति परीक्षार्थी प्रवेश पत्र के साथ लेकर केंद्राधीक्षक के पास जाएंगे और इसकी छायाप्रति राजपत्रित अधिकारी से सत्यापित कराकर केंद्राधीक्षक के पास जमा करेंगे। केंद्राधीक्षक द्वारा इन साक्ष्यों के सत्यापन के बाद परीक्षार्थी को परीक्षा में शामिल कराया जाएगा। छात्र-छात्रा की फोटो का मिलान किया जाएगा, इसके बाद ही उन्हें अनुमति दी जाएगी। छात्र द्वारा जमा किया गया साक्ष्य बिहार बोर्ड को भी भेजना होगा।

मोबाइल फोन, ब्लूटूथ और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट पर है रोक
परीक्षा केंद्र पर मोबाइल, ब्लूटूथ, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, व्हाइटनर एवं इरेजर अादि लाने तथा उनके इस्तेमाल पर पूरी तरह रोक रहेगी। केंद्राधीक्षकों को निर्देश दिया है कि प्रवेश द्वार पर ही पर्याप्त छानबीन कर ली जाए ताकि इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स एवं अन्य वर्जित सामग्री परीक्षार्थी केंद्र में नहीं ले जा सके। परीक्षा केंद्र पर प्रतिनियुक्त शिक्षक एवं अन्य कर्मी अपने साथ परीक्षा कार्य से संबंधित कागजात के अतिरिक्त कोई अन्य कागजात नहीं ले जाएंगे और मोबाइल फोन का उपयोग भी नहीं करेंगे। परीक्षा केंद्र पर जो भी शिक्षक, सुरक्षित वीक्षक या अन्य कर्मी उपस्थित रहेंगे वे भी परीक्षा के दौरान अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखेंगे और निर्धारित स्थान से हटकर परीक्षा कक्ष में या अन्य कहीं भ्रमण नहीं करेंगे।

यदि किसी परीक्षार्थी का प्रवेश पत्र खो गया हो या घर में ही भूल गए हों तो ऐसी परिस्थिति में उपस्थिति पत्रक में स्कैन्ड फोटो से उसे पहचान कर और रोल शीट से सत्यापित कर परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी। रोल शीट में कभी-कभी विषय प्रिंटिंग में गलती होती है ऐसी स्थिति में परीक्षार्थी से घोषणापत्र लेकर केंद्राधीक्षक प्रवेश पत्र के अनुसार उस विषय की परीक्षा लेंगे। उपस्थिति पत्रक एवं रोल शीट में सुधार कर मुहर लगा देंगे। बोर्ड ने कहा है कि अाॅनलाइन अावेदन पत्र में सुधार के कई माैके बाेर्ड ने दिए। इसके बावजूद यदि किसी परीक्षार्थी के प्रवेश पत्र में लिंग की त्रुटि पाई जाती है और इस कारण उनका परीक्षा केंद्र उनके अनुसार न हाेकर दूसरा हाे गया है ताे वैसी स्थिति में उन्हें प्रवेश पत्र में अंकित केंद्र पर ही परीक्षा देनी है। इसके लिए महिला एवं पुरुष परीक्षार्थियों को, केंद्राधीक्षक अलग-अलग बैठने की व्यवस्था करके उन्हें परीक्षा में शामिल कराएंगे।

इंटरनल असेसमेंट और प्रैक्टिकल परीक्षा शुरू
पटना| मैट्रिक परीक्षार्थियों के लिए बुधवार से इंटरनल असेसमेंट, प्रैक्टिकल परीक्षा शुरू हो गई। 22 जनवरी तक स्कूलों को अपने हिसाब से परीक्षाएं आयोजित करनी हैं। सोशल साइंस और साइंस में इंटरनल असेसमेंट के तहत 20 अंकों की परीक्षा होगी, जबकि होम साइंस व म्यूजिक की पहले परीक्षा ली जाएगी उसके बाद प्रैक्टिकल देना है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *