बिहार बोर्ड पर पटना HC ने लगाया 5 लाख का जुर्माना, नवादा की छात्रा का प्रमाणपत्र 6 साल रोका

नवादा के परतो करहरिया की रहने वाली है छात्रा, छात्रा का प्रमाणपत्र 6 साल तक रोका, बिहार बोर्ड देगा 5 लाख रुपए मुआवजाहाईकोर्ट ने दिया आदेश मूल प्रमाणपत्र रोकना पूरी तरह से गलत : छात्रा का अंकपत्र और प्रमाणपत्र रोके रखना बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को काफी महंगा पड़ा। नवादा जिले के परतो करहरिया गांव की रहने वाली सरस्वती कुमारी ने प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्षा पास की थी। लेकिन उसके मूल अंकपत्र और प्रमाणपत्र को समिति ने 6 वर्षों तक रोके रखा। उसने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। जस्टिस संजीव प्रकाश शर्मा की एकलपीठ ने कहा कि समिति ने 6 वर्षों तक मूल अंकपत्र और प्रमाणपत्र नहीं दिया जिसके कारण वह आगे की पढ़ाई से भी वंचित रही। ऐसा करना पूरी तरह गलत है। समिति के वकील का कहना था कि संबंधित स्कूल ने रजिस्ट्रेशन फीस जमा नहीं की थी इसीलिए अंकपत्र और प्रमाणपत्र उसे नहीं सौंपा गया जिसका खामियाजा छात्रा को भुगतना पड़ा।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.