चुनाव जीतने के लिए नीतीश को नहीं मोदी को बनाना होगा चेहरा, बिहार सरकार के मंत्री ने दिया बयान

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: इस BJP नेता ने कहा- चुनाव जीतने के लिए ‘नमो’ को बनाना होगा चेहरा!

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) किसके चेहरे पर लड़ा जाएगा, इसको लेकर बीजेपी के बड़े नेता और कृषि मंत्री प्रेम कुमार (Prem Kumar) ने बड़ा बयान दिया है. प्रेम कुमार ने कहा है कि इस बार का विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की अगुवाई में होगा लेकिन यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के चेहरे पर लड़ा जाएगा. यही नहीं उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जिन योजनाओं को बिहार (Bihar) में लागू किया है उन योजनाओं को मुद्दा बनाकर मतदाताओं से वोट मांगने जाएंगे. साथ ही उन्होंने यह दावा किया कि प्रधानमंत्री के बिहार के लिए किए जा रहे विकास कार्यों से राज्य की जनता उत्साहित है.

बिहार में बीजेपी की सहयोगी जनता दल युनाइटेड (JDU) हमेशा से कहती रही है कि विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार की अगुवाई के साथ-साथ उनके चेहरे पर ही लड़ा जाएगा. जेडीयू के नेता यहां तक कहते रहे हैं कि बिहार में NDA का चेहरा भी नीतीश कुमार होंगे. मगर अब बिहार बीजेपी के नेता प्रेम कुमार का दिया ताजा बयान जेडीयू को नागवार गुजरी है. जेडीयू के विधायक ललन पासवान ने प्रेम कुमार के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए चेहरा तो नीतीश कुमार का ही होगा. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार का चेहरा ही जिताऊ चेहरा है, पता नहीं बीजेपी नेता और मंत्री प्रेम कुमार को यह कैसे नहीं दिखता. पासवान ने कहा कि अगर प्रेम कुमार को पता नहीं तो कम से कम अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से तो पूछ लेते, जो नीतीश कुमार की अगुवाई में चुनाव लड़ने की बात कहते हैं. खुद प्रधानमंत्री तो नीतीश कुमार के विकास कार्यों से इतने प्रभावित हैं कि उन्होंने कई बार मुख्यमंत्री की तारीफ भी की है.

बिहार बीजेपी में एक गुट इशारों में नीतीश कुमार के खिलाफ सवाल खड़े करता है
दरअसल सूत्र बताते हैं कि बिहार बीजेपी में एक गुट ऐसा है जो नीतीश कुमार के खिलाफ इशारों में ही सही लेकिन कई बार सवाल खड़े करते रहा है. ऐसे नेताओं को लगता है कि राज्य में नीतीश कुमार के पंद्रह वर्षों के शासनकाल के बाद इस बार हालात पहले जैसे नहीं हैं. बीजेपी के कराए इंटरनल सर्वे को लेकर भी चर्चा है जिसमें बताया गया है कि नीतीश कुमार को लेकर जनता में नाराजगी है जिसका खामियाजा एनडीए गठबंधन को उठाना पड़ सकता है. ऐसे नेता यह भी मानते है की इन हालात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे को आगे कर चुनाव में जाने से फायदा मिल सकता है. साथ ही केंद्र सरकार जिस तरह से बिहार को विकास के कई तोहफे दे रही है उसका मैसेज भी जनता में बेहतर जा रहा है.

इसके पहले लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान भी लगातार नीतीश कुमार के विकास कार्यों पर सवाल उठाते रहे हैं, ऐसे में बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता प्रेम कुमार का भी सीएम नीतीश के चेहरे पर सवाल उठाना चुनावी माहौल को गर्मा सकता है.

वहीं राजधानी पटना में भी कई जगह एक पोस्टर लगातार चर्चा का केंद्र बना हुआ है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तस्वीर लगी हुई है. पोस्टर में लिखे शब्द बेहद महत्वपूर्ण हैं. प्रधानमंत्री ने नीतीश कुमार के विकास कार्यों से प्रभावित होकर जो शब्द बोले हैं वो इसमें लिखा हुआ है. बताया जाता है कि जेडीयू के ही किसी समर्थक ने यह पोस्टर लगाया है जिसका मकसद उन तमाम लोगों को चुप कराना है जो नीतीश कुमार के विकास कार्यों और चेहरे पर सवाल खड़े करते हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *