बि​हार का CM बनना चाहते थे रमई राम, बोचहां से नौ बार रहे थे MLA, लालू—नीतीश ने बनाया मंत्री

बि​हार का सीएम बनना चाहते थे रमई राम, बोचहां से नौ बार रहे थे विधायक, लालू—नीतीश दोनों ने बनाया था मंत्री : बिहार के वरिष्ठ नेता रमई राम नहीं रहे। अभी कुछ दिन ही पहले जमुई वाले नरेंद्र बाबू हम लोगों को छोड़कर चले गए थे। उनका अभी तक द्वादश कर्म भी नहीं हुआ था कि अब रमई राम परलोक सिधार गए। बताया जाता है कि सीएम नीतीश कुमार, विधान सभा अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी सहित कई लोगों ने शोक व्यक्त किया है।

बताते चले कि रमई राम बोचहां सीट से तीन बार राजद के टिकट, एक बार जेडीयू के टिकट, दो बार जनता दल के टिकट और इसके अलावा तीन अन्य दलों के प्रत्याशी के रूप में विधायकी का चुनाव जीत चुके हैं। इसके साथ ही वह 5 बार बिहार में मंत्री भी रहे हैं। साल 2015 और 2020 में लगातार दो बार उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा।

उल्लेखनीय है कि एक बार उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें कभी भी सीएम की कुर्सी पर बैठाया जाता है तो वह सबसे बेहतर मुख्यमंत्री साबित होंगे। उनका राजनीतिक जीवन 40 वर्षो का है और उन पर कोई आरोप भी नहीं लगा है। इसलिए उन्हें एक बार मौका मिलना चाहिए था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.