कोरोना जांच-वैक्सीनेशन के नाम पर बिहार में फर्जीवाड़ा, तीन माह बीतने के बाद भी नहीं आया रिपोर्ट

AMAN JHA AND SATYAM JHA : कोरोना जांच और वैक्सीनेशन के नाम पर बिहार सरकार गजब का फर्जीवाड़ा कर रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारी और पदाधिकारियों को आदेश दिया था कि अधिक से अधिक आरटी-पीसीआर जांच कराई जाए।

कोरोना जांच कराने के लिए आज UPHC मुख्य सचिवालय, पटना गया था तो वहां पता चला कि सिर्फ एंटीजन टेस्ट हो रहा है। वहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तो नहीं ही हो रहा था कई लोग तो मास्क भी नहीं पहने हुए थे।अस्पताल में कोई कर्मचारी ध्यान देने वाला नहीं था। पूरे UPHC में एक ही आटोमेटिक सेनिटाइजर मशीन लगी हुई थी, लेकिन उसमें भी सेनिटाइजर नहीं था। गड़बड़ी ऊपर से नीचे तक है।

दूसरी घटना, 18 मार्च को UPHC शास्त्रीनगर, पटना में मैंने कोरोना की एंटीजन और आरटी- पीसीआर जांच करवाई थी। सामान्यतः आरटी-पीसीआर का रिपोर्ट 6-8 घंटे में आती है। इस हिसाब से रिपोर्ट मैसेज के माध्यम से 24 या 48 घंटे में आ जानी चाहिए थी। लगभग 20 दिन हो चुके हैं, अभीतक रिपोर्ट नहीं आई। इससे पहले- PHC मोरवा, समस्तीपुर में भी मैंने आरटी-पीसीआर जांच करवाई। 3 महीने से ज्यादा समय बीत चुका है, अभीतक रिपोर्ट नहीं आई है।बिहार में आरटी-पीसीआर जांच के नाम और गजब का खेल खेला जा रहा है।

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *