क्या मदन मोहन झा बिहार के नए उप मुख्यमंत्री होंगे?

Pravin bagi
बिहार के उप मुख्यमंत्री की कुर्सी पर मदन मोहन झा बैठ गये। झा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं। वाकया पटना के गांधी मैदान का है। मौका था रावण वध का। BJP ने रावण वध कार्यक्रम का अघोषित बहिष्कार कर दिया। पार्टी का कोई नेता कार्यक्रम में नहीं पहुंचा। यहां तक कि राज्यपाल भी नहीं आये।बताया गया कि तबियत नासाज है।

BJP की ओर से इस अनुपस्थिति पर कोई सफाई नहीं दी गई। इस तरह के कार्यक्रमों में BJP नेता बढ़-चढ़ के भाग लेते रहे हैं। इसलिए उनकी अनुपस्थिति ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। पटना में 10 दिनों तक हुए जल जमाव के मसले पर दोनों दलों में तल्खी बढ़ी है। रावण वध में BJP नेताओं का नहीं आना उसी तल्खी का विस्तार माना जा रहा है। इसे रावण वध कार्यक्रम का नहीं बल्कि CM नीतीश का बहिष्कार माना जा रहा है। यह कितनी दूर तक जायेगा, इसे देखना होगा।

एक सवाल यह भी है कि क्या मदन मोहन झा बिहार के नए उप मुख्यमंत्री होंगे? राजनीति में कुछ भी हो सकता है। और नीतीश कुमार तो इस खेल में माहिर हो चुके हैं। दोनों दलों के रिश्तों में एक नई गर्माहट कुछ समय से दिखाई भी पड़ रही है। कांग्रेस ने कभी नीतीश का खुलकर विरोध नहीं किया। उधर RJD नेतृत्व BJP के खिलाफ बोलने से परहेज कर रहा है। बेशक वह नीतीश के खिलाफ मुखर है।

तो क्या यह माना जाए कि इस विजयादशमी बिहार में एक नए राजनीतिक समीकरण की बुनियाद रख दी गई है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *