कैबिनेट विस्तार पर भाजपा-जदयू में महाभारत, CM नीतीश को अधिक मंत्री पद देने से टीम मोदी का इंकार

नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार इसी सप्ताह हो जाएगा। हालांकि इसके लिए अभी तिथि तय नहीं की गई है, लेकिन माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भाजपा की अंतिम बात हो चुकी है। दिल्ली से भाजपा के संभावित मंत्रियों की सूची आते ही कैबिनेट विस्तार की औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएंगी। उधर, भाजपा केंद्रीय नेतृत्व ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल और प्रदेश संगठन महामंत्री नागेंद्र जी को दिल्ली तलब किया है।

पिछले दिनों कैबिनेट विस्तार को लेकर उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल मुख्यमंत्री से भी मिले थे। एक घंटे की चर्चा में सीटों की हिस्सेदारी पर भी बात हुई। भाजपा नीतीश को मुख्यमंत्री बनाने के बाद सरकार में बड़े भाई की भूमिका में रहना चाहती है। इसीलिए वह मंत्रियों की संख्या के रूप में अधिक हिस्सेदारी चाहती है। लेकिन जदयू बराबर-बराबर की संख्या पर अड़ा है। अब सबकी नजर दिल्ली पर है। नीतीश कैबिनेट में इस समय 14 मंत्री ही शामिल हैं जबकि नियमानुसार मुख्यमंत्री समेत 36 मंत्रियों का मनोनयन किया जा सकता है। ऐसे में 26 मंत्रियों का पद रिक्त है। इस समय भाजपा कोटे के 7 जबकि जदयू कोटे के 5 और हम व वीआईपी के एक-एक मंत्री ही सरकार में हैं।

भाजपा ने जदयू के ही फाॅर्मूले को बनाया आधार
भाजपा ने अबतक बिहार में सरकार के गठन या अन्य प्रक्रियाओं में जदयू के बनाए फाॅर्मूले को ही आधार बनाया है। विधानसभा में अधिक विधायक जीतने के कारण जदयू अबतक बड़े भाई की भूमिका में रहा है। सरकार में उसके अधिक मंत्री इसी आधार पर बनते रहे हैं। सामान्यत: 7 विधायकों पर दो मंत्री बनाने का आधार रहा है। ऐसे में भाजपा के 20-21, जबकि जदयू के 12-13 मंत्री ही बन सकते हैं। इस गणित पर वीआईपी और हम को एक-एक मंत्री पद मिलेगा। दोनों के एक-एक मंत्री बन भी चुके हैं।

अब पेंच जदयू-भाजपा के बीच है।
भाजपा की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से राज्यपाल कोटे के 12 विधान पार्षदों को लेकर भी बात हुई है। यहां भी संख्या को लेकर दोनों के बीच पेंच है। भाजपा 7:5 की हिस्सेदारी चाह रही है। इसमें जदयू को अपने कोटे से हम को भी सीट देनी होगी। जदयू यहां भी बराबर-बराबर सीट चाहता है। इसमें से वह एक सीट हम के लिए छोड़ने को तैयार है। ऐसे में सीटों का बंटवारा 6:5:1 के अनुपात में होगा। वीआईपी को भाजपा अपने कोटे से िवधान परिषद उपचुनाव में एक सीट दे चुकी है।

{जदयू कोटे के मंत्री : नीतीश कुमार (मुख्यमंत्री), विजय कुमार चौधरी, विजेंद्र प्रसाद यादव, अशोक चौधरी, शीला कुमारी {भाजपा कोटे के मंत्री: तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, मंगल पांडेय, अमरेन्द्र प्रताप सिंह, जिवेश कुमार, रामसूरत राय, रामप्रीत पासवान {हम: संतोष सुमन {वीआईपी: मुकेश सहनी

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *