चिराग पासवान ने BJP उम्मीदवार श्रेयसी के लिए मांगे वोट, कहा-छोटी बहन की मदद करें

जमुई. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में चुनाव प्रचार के साथ ही विरोधियों पर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है. बात एनडीए (NDA) की करें तो जेडीयू (JDU) के निशाने पर चिराग और चिराग के निशाने पर नीतीश हैं लेकिन बीजेपी (BJP) के लिए चिराग पासवान न केवल अपनी दोस्ती दिखा रहे हैं बल्कि उनके प्रत्याशियों के लिए वोट अपील भी कर रहे हैं. चिराग पासवान बिहार की जमुई सीट से लोजपा के सांसद है. इस चुनाव में उनके संसदीय क्षेत्र जमुई विधानसभा सीट की सीट भाजपा के खाते में गई है और यहां की उम्मीदवार श्रेयसी सिंह (Shreyasi Singh) हैं जो कि नेशनल शूटर हैं और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय दिग्विजय सिंह की बेटी भी. चिराग ने खुलकर श्रेयसी का समर्थन किया है.

ऐसे समय में जब चिराग अपने पिता रामविलास पासवान की मौत के बाद घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं अपने प्रत्याशियों के लिए वर्चुअल कैंपेनिंग ही कर रहे हैं. चिराग ने ट्वीट कर श्रेयसी सिंह को जीत दिलाने की अपील की है लेकिन इस ट्वीट में भी उन्होंने नीतीश कुमार की पार्टी जदयू पर हमला बोलना नहीं भूला है. चिराग ने लोजपा के सभी कार्यकर्ताओं से अपील है की इस बार के चुनाव में श्रेयसी सिंह की मदद करें

शनिवार की देर शाम किए इस ट्वीट में लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने लिखा, ‘जमुई विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी छोटी बहन श्रेयसी सिंह को ढेर सारी शुभकामनाएं।लोजपा के सभी कार्यकर्ताओं से अपील है की श्रेयशी की मदत करें। भाजपा प्रत्याशी और लोजपा प्रत्याशी ही मिल कर युवा बिहार नया बिहार बनाएंगे। जेडीयू को दिया गया एक भी वोट शिक्षकों को लाठी खाने पर मजबूर करेगा।’

मालूम हो कि बिहार के चुनाव में श्रेयसी सिंह जो कि अंतरराष्ट्रीय स्तर की शूटर हैं और कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल भी जीत चुकी हैं अपनी किस्मत आजमा रही हैं. उनकी मां और पिता दोनों सांसद रह चुके हैं लेकिन उनके लिए बतौर राजनेता ये पहला चुनाव है. श्रेयसी ने हाल ही में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी. श्रेयसी सिंह की माता पुतुल सिंह बांका की सांसद रही हैं तो पिता दिग्विजय सिंह बिहार के दिग्गज नेता थे और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वे रेल राज्य मंत्री भी रहे थे.

बिहार की इस सीट पर सभी की नजर इसलिए भी है क्योंकि इस सीट यानी जमुई लोकसभा क्षेत्र से चिराग पासवान सांसद हैं और वो इस बार का चुनाव एकला चलो रे की राह पर चल रहे हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *