विपक्ष को कुचलकर राज करना खतरनाक, बिना छानबीन के कानून बनाए जा रहे हैं: चीफ जस्टिस

चीफ जस्टिस एनवी रमना ने राजनीतिक परिदृश्य में आ रही गिरावट पर चिंता जताई। उन्होंने कहा आज सत्ता पक्ष विरोधियों को कुचलने की सोच रखता है और उन्हें दबाकर रखना चाहता है। दुर्भाग्य से विपक्ष के लिए स्थान कम हाे रहा है। सरकार के खिलाफ बोलने पर विपक्ष के साथ रिश्ता दुश्मनी में बदलता जा रहा है। ये देश में स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। रमना ने कहा िक पहले सरकार-विपक्ष में एक-दूसरे के प्रति सम्मान हुअा करता था। उन्हाेंने कहा बिना विस्तृत चर्चा व छानबीन के विधेयक पारित कर कानून बनाए जा रहे हैं। सीजेअाई ने संसद-विधानमंडलाें में कामकाज काे लेकर भी चिंता जाहिर की।

जजों को रिटायरमेंट प्लान की ज्यादा चिंता है: गहलोत
राजस्थान के सीएम गहलोत ने कहा िक जज फेस वैल्यू देखकर फैसला देते हैं। उन्हें अपने रिटायरमेंट प्लान की चिंता रहती है। सुप्रीम कोर्ट में वकीलों की फीस 1 करोड़ तक होती है, आम आदमी वहां जाने की सोच ही नहीं सकता। पहले सु्प्रीम कोर्ट के 4 जजों ने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है। फिर उनमें से एक सीजेआई बन गए। मैंने राष्ट्रपति के सामने पूछा कि मिस्टर गोगोई, पहले ठीक थे या अब ठीक हैं? बाद में वे राज्यसभा सदस्य बन गए। हॉर्स ट्रेडिंग कर सरकारें गिराई जा रही हैं। ये तो मेरी सरकार पता नहीं कैसे बच गई, ये आश्चर्य ही है। हाल में दो जजों ने एक मामले में फैसला किया तो 116 लोगों को उनके खिलाफ खड़ा कर दिया गया।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनवी रमना, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने शनिवार को जयपुर में दो कार्यक्रमों में शिरकत की। जजों और नेताओं ने एक-दूसरे को आईना दिखाते हुए तल्ख टिप्पणियां कीं। रिजिजू बाेले- निचली कोर्ट और हाईकोर्ट में हिन्दी तथा अन्य क्षेत्रीय भाषा में भी सुनवाई होनी चाहिए।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.