लोजपा से CM नीतीश कुमार ने लिया ‘बदला’, रामविलास पासवान वाली राज्य सभा सीट चिराग को मिलना मुश्किल

पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं लोजपा नेता रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के निधन से खाली हुई राज्यसभा की एक सीट पर चुनाव आयोग (Election commission) तैयारी कर चुका है और इसपर 14 दिसंबर को उपचुनाव होगा. निर्वाचन आयोग के कार्यक्रम के अनुसार विधानसभा कोटे से खाली हुई सीट के लिए 26 नवंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी और 16 दिसंबर तक सारी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. लेकिन पेंच एनडीए में फंस गया है. दरअसल रामविलास पासवान के निधन से बिहार से राज्यसभा की खाली हुई सीट पर दावेदारी को लेकर असमंजस है.

बता दें कि राजग (NDA) में सीटों के तालमेल के तहत लोकसभा चुनाव के बाद उन्हें बिहार से राज्यसभा भेजा गया था. केंद्र में भाजपा और लोक जनशक्ति पार्टी यानी लोजपा का गठबंधन है, लेकिन बिहार में जदयू-भाजपा गठबंधन का लोजपा हिस्सा नहीं है. विधानसभा चुनाव में लोजपा ने जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ा. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि इस बार राज्यसभा की यह सीट किसके खाते में जाएगी?

गौरतलब है कि रामविलास पासवान भाजपा और जदयू के सहयोग से 2019 में निर्विरोध चुने गए थे. इस सीट का कार्यकाल 2 अप्रैल 2024 तक है. विधानसभा चुनाव में लोजपा के चलते जदयू को काफी नुकसान उठाना पड़ा है. वहीं, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के बयानों से जदयू में नाराजगी भी है. ऐसे में लोजपा को यह सीट देने के लिए भाजपा को जदयू प्रमुख नीतीश कुमार को मनाना आसान नहीं होगा.

इस एक सीट के उपचुनाव के लिए 14 दिसंबर को मतदान कराए जाने का कार्यक्रम तय किया गया है. इसके पहले तीन दिसंबर तक नामांकन पत्र दाखिल किया जा सकेगा. चार दिसंबर को स्क्रूटनी की तारीख तय की गई है. प्रत्याशी सात दिसंबर तक अपनी दावेदारी वापस ले सकते हैं. जरूरत पड़ी तो 14 दिसंबर को मतदान होगा. सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक मतदान का समय निर्धारित किया गया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *