बिहार में कोरोना मरीजों को ​नहीं मिल रहा बेड, MLA—MP के रिश्तेदार ने हॉस्पिटल पर जमाया कब्जा

बिहार—झारखंड में कोरोना की स्थिति इस बात से चल रही है कि बिहार झारखंड के पत्रकारिता जगत अच्छी खासी पहचान रखने वाले लोग भी अपने रिश्तेदारों का इलाज ठीक ढंग से नहीं करवा पा रहे है। इन लोगों की माने तो बिहार—झारखंड के अधिकांश हास्पिटल पर वीआईपी नेताओ के ​रिश्तेदारों ने कब्जा जमा रखा है। नीरज पटना से बीबीसी के लिए काम करते हैं तो सन्नी शरद झारखंड में वेब पोर्टल चलाते हैं.

Neeraj Priyadarshy : मेरा साथी कोविड से संक्रमित है, उसकी तबियत बिगड़ते जा रही है, पटना के अस्पतालों और स्वास्थ महकमे में अपना संपर्क भी है, लेकिन फ़िर भी इलाज़ में मैं उसकी कोई मदद नहीं कर पा रहा. अस्पताल वाले कह रहे हमारे यहां जगह नहीं है. बहुत बुरा वक्त है यह. प्लीज़ मदद करें.

Sunny Sharad : ज्यादातर अस्पतालों में बड़े अधिकारी और नेताओं के परिजन और रिश्तेदार बेड लूटकर रखे हैं। अगर सिर्फ खांसी भी है तो अस्पताल में अच्छी जगह मिल रही है जबकि सीरियस मरीज अस्पताल के बाहर मर रहे हैं। क्या ऐसी कोई व्यवस्था है जो प्राथमिकता के आधार पर इलाज मिल सके या फिर अमीर और गरीब के हिसाब से देखना ही एक पैमाना है।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.