क्या मुसलमान होने के कारण बलि का बकरा बनाया जा रहा है ‘दरभंगा सिटी’ YOU TUBE चैनल वाले इरफान को!

आपको वह फिल्म याद है जिसमें शाहरुख खान को एक एयरपोर्ट पर इसलिए गिरफ्तार कर लिया जाता है क्योंकि उसके पासपोर्ट पर उसका नाम मुस्लिम वाला था। जी हां मैं उस सिनेमा की बात कर रहा हूं जिसका नाम माय नेम इज खान रखा गया था। आप सोच रहे होंगे कि आज हम फिल्म की बात क्यों कर रहे हैं। यहां हम फिल्म की बात नहीं, बल्कि एक सच्ची घटना को आपके सामने रखने जा रहे हैं।

बिहार के दरभंगा एयरपोर्ट से तीन-चार दिन पहले एयरपोर्ट अथॉरिटी ने एक युवक को गिरफ्तार किया है। उस पर आरोप है कि वर्जित क्षेत्र में बिना परमिशन वह एयरपोर्ट का फोटो और वीडियो बना रहा था। जानकारी के क्रम में पता चला कि वह युवक ‘दरभंगा सिटी’ नामक यूट्यूब चैनल के लिए काम करता है। दरभंगा सिटी नामक फेसबुक और युटुब चैनल पर अपलोड कई वीडियो में युवक लोगों से इंटरव्यू करते हुए भी नजर आता है। बावजूद इसके उसे कथित रूप से आ/तंकवादी मानते हुए गिरफ्तार कर लिया गया है और जेल भेज दिया गया है।

जब DAILY BIHAR ने इस मामले की पड़ताल की तो उसने पाया की सच में यूट्यूब पर दरभंगा सिटी नामक एक पेज है, जिसके सब्सक्राइबर लगभग 80 हजार से ऊपर है। वही यूट्यूब चैनल वाली वीडियो कि नीचे एक फेसबुक पेज का लिंक दिया हुआ है जिसे खोलने पर एक नंबर नजर आता है 070043 37393 लिखा हुआ है। इससे स्पष्ट है कि अब फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल कोई एक ही आदमी चला रहा है।

जब हमने इस नंबर पर फोन किया तो शिवम नामक एक युवक ने फोन उठाया। बार-बार-बार पूछने के बाद भी उसने हमें यह नहीं बताया कि क्या वह दरभंगा सिटी पेज का एडमिन है या नहीं । क्या गिरफ्तार युवक सच में उनके पेज के लिए काम करता है या नहीं । अगर वह इस पेज का एडमिन नहीं हैं तो फेसबुक पेज पर उसका नंबर क्यों और कैसे आया ।

क्या कहती है स्थानीय मीडिया : दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर के अनुसार पूछताछ के क्रम में इरफान ने बताया कि वह यूटयूब दरभंगा सिटी चैनल के लिए काम करता है, जिसका संचालन दुबई में बैठा उसका भाई आरिफ बिल्ला करता है। आरिफ डेढ़-दो साल से दुबई में रहता है। सूत्रों की मानें तो जांच में आरिफ के नाम से एक फेसबुक आइडी मिली है, जिसमें पाकिस्तान समर्थन में कई कॉमेंट देखने को मिला है।

दरभंगा सिटी यूटयूब चैनल के 85 हजार फॉलोअर्स में कई पाकिस्तानी लोग शामिल हैं। जांच में यह भी पता चला कि इरफान सिवान के रहने वाले मो. जाहिद नामक एक किन्नर से घंटों बात कर रहा है। उसका नंबर इरफान अपने मोबाइल में मो. सोना के नाम से सेव कर रखा है। सख्ती से पूछताछ के बाद उसने बताया कि जाहिद से वह दो वर्षों से जुड़ा हुआ है और उसी के कहने पर वह प्रतिबंधित क्षेत्र की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कर भेजने का काम करते हैं।

मोबाइल में कई ऐसा नाम सामने आया है जो चौंकाने वाला है। इसमें कई लोग उसे आर्थिक मदद भी करता है। पूछताछ में इरफान कभी जाहिद उर्फ सोना तो कभी अपने भाई के लिए काम करने की बात कहता रहा। बार-बार अपना बयान बदलता रह। बताया जा रहा है कि जरूरत पडऩे पर पुलिस इरफान को फिर से रिमांड पर लेकर पूछताछ कर सकती है।

दरभंगा एयरफोर्स स्टेशन की फोटोग्राफी करते पकड़े गए युवक को केवटी पुलिस ने पूछताछ के बाद न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। पकड़े गया युवक लहेरियासराय थाना क्षेत्र के किलाघाट चौक निवासी मो. अंजूम जेबा का पुत्र मो. इरफान है। इसके खिलाफ एयरफोर्स के सिक्योरिटी ऑफिसर एचएस चाहर ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। संगीन मामला को देखते हुए इरफान पर विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्राथमिकी में कहा गया हैं कि आरोपित एयरफोर्स स्टेशन की मेन गेट और रनवे की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कर दुबई में रह रहे अपने भाई को व्हाट््सएप भेज रहा था।

पहले भी कई लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी : दरभंगा एयरफोर्स स्टेशन की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी मामले में पहले भी कई लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। 16 अक्टूबर 2018 को मेन गेट के नजदीक से सेल्फी खींचने के आरोप में मुजफ्फरपुर जिले के कटरा थाना क्षेत्र के बडऱी कोठी गांव निवासी मो. सरफराज को गिरफ्तार किया गया था। वहीं 2 फरवरी 2016 को तस्वीर खींचने के आरोप में जम्मू-कश्मीर के चार युवकों को पकड़ा गया था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *