लॉकडाउन में बेरोजगार हुए कामगार मिथिला पेंटिंग के सहारे बदल रहे बिहार के इस शहर की सूरत

Patna:कोरोना काल में लंबे समय से लॉकडाउन ने पहले ही आम लोगों के जीवन को पटरी से उतार दिया है, ऊपर से उत्तर बिहार में बाढ़ की मार ने लोगों को बर्बाद कर छोड़ा है. बड़े पैमाने में लोग बेरोजगार हो बैठे हैं, ऐसे में रोज कमाने और रोज खांने वालो लोगो के सामने पेट की आग को बुझाना कोई आसान काम नहीं. इस बीच दरभंगा जिला प्रशासन ने लोगों को रोजगार देने की पहल की है.

लोगों के बेरोजगारी की इस पीड़ा को देखते हुए दरभंगा के DM त्याग राजन अपने प्रयास से कई लेवल पर अलग-अलग तरह के रोजगार का अवसर नवसृजित कर लोगों को काम देने का प्रयास कर रहे है. इस बार जिलाधिकारी ने मिथिला पेंटिंग को रोजगार सृजन का रास्ता बनाते हुए सरकारी बिल्डिंग और दफ्तर पर मिथिला पेंटिंग करने के आदेश दे कर एक बार फिर कलाकार के लिए नए रोजगार सृजित करने का काम किया है. लोगों के बेरोजगारी की इस पीड़ा को देखते हुए दरभंगा के DM त्याग राजन अपने प्रयास से कई लेवल पर अलग-अलग तरह के रोजगार का अवसर नवसृजित कर लोगों को काम देने का प्रयास कर रहे है. इस बार जिलाधिकारी ने मिथिला पेंटिंग को रोजगार सृजन का रास्ता बनाते हुए सरकारी बिल्डिंग और दफ्तर पर मिथिला पेंटिंग करने के आदेश दे कर एक बार फिर कलाकार के लिए नए रोजगार सृजित करने का काम किया है.

लोगों के बेरोजगारी की इस पीड़ा को देखते हुए दरभंगा के DM त्याग राजन अपने प्रयास से कई लेवल पर अलग-अलग तरह के रोजगार का अवसर नवसृजित कर लोगों को काम देने का प्रयास कर रहे है. इस बार जिलाधिकारी ने मिथिला पेंटिंग को रोजगार सृजन का रास्ता बनाते हुए सरकारी बिल्डिंग और दफ्तर पर मिथिला पेंटिंग करने के आदेश दे कर एक बार फिर कलाकार के लिए नए रोजगार सृजित करने का काम किया है.

DM के आदेश के बाद दरभंगा के सर्किट हाउस और डीएम दफ्तर के कई जगहों पर मिथिला पेंटिंग में बड़े पैमाने 40 की संख्या पर कलाकार लगाये गये हैं. मिथिला पेंटिंग में महिला-पुरुष दोनों कलाकार दीवारों पर अपनी कला का अद्भुत कौशल भी दिखा रहे हैं. DM के आदेश के बाद दरभंगा के सर्किट हाउस और डीएम दफ्तर के कई जगहों पर मिथिला पेंटिंग में बड़े पैमाने 40 की संख्या पर कलाकार लगाये गये हैं. मिथिला पेंटिंग में महिला-पुरुष दोनों कलाकार दीवारों पर अपनी कला का अद्भुत कौशल भी दिखा रहे हैं.

मिथिला पेंटिंग द्वारा दीवार पर बनाई गयी ज्यादातर तस्वीर कोइ न कोई सन्देश भी देने का काम कर रही है. काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश हैं. खुद को खुद किस्मत मानते हैं कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए हैं. कामगारों का कहना है कि रोजगार मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है. मिथिला पेंटिंग द्वारा दीवार पर बनाई गयी ज्यादातर तस्वीर कोइ न कोई सन्देश भी देने का काम कर रही है. काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश हैं. खुद को खुद किस्मत मानते हैं कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए हैं. कामगारों का कहना है कि रोजगार मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है.

मिथिला पेंटिंग द्वारा दीवार पर बनाई गयी ज्यादातर तस्वीर कोइ न कोई सन्देश भी देने का काम कर रही है. काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश हैं. खुद को खुद किस्मत मानते हैं कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए हैं. कामगारों का कहना है कि रोजगार मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है.

पेंटिग में लगे महिला-पुरुष कलाकारों का कहना है कि कल तक खाने के मोहताज थे अब काम मिलने से थोड़े दिन के लिए ही सही हम कलाकार के दिन बदल जरूर गए हैं. पेंटिग में लगे महिला-पुरुष कलाकारों का कहना है कि कल तक खाने के मोहताज थे अब काम मिलने से थोड़े दिन के लिए ही सही हम कलाकार के दिन बदल जरूर गए हैं. पेंटिग में लगे महिला-पुरुष कलाकारों का कहना है कि कल तक खाने के मोहताज थे अब काम मिलने से थोड़े दिन के लिए ही सही हम कलाकार के दिन बदल जरूर गए हैं.

डीएम त्याग राजन ने कहा कि लॉकडाउन और बाढ़ की विभीषिका को देखते हुए नये रोजगार के अवसर को निकाला गया है और सरकारी भवन पर मिथिला पेंटिंग का काम लोकल कलाकार को दिया गया ताकि दीवारें सुन्दर दिखे और मिथिला पेंटिंग का प्रचार प्रसार भी हो सके साथ ही बेरोजगार हुए लोगो को रोजगार के अवसर भी मिलते रहे डीएम त्याग राजन ने कहा कि लॉकडाउन और बाढ़ की विभीषिका को देखते हुए नये रोजगार के अवसर को निकाला गया है और सरकारी भवन पर मिथिला पेंटिंग का काम लोकल कलाकार को दिया गया ताकि दीवारें सुन्दर दिखे और मिथिला पेंटिंग का प्रचार प्रसार भी हो सके साथ ही बेरोजगार हुए लोगो को रोजगार के अवसर भी मिलते रहे

डीएम त्याग राजन ने कहा कि लॉकडाउन और बाढ़ की विभीषिका को देखते हुए नये रोजगार के अवसर को निकाला गया है और सरकारी भवन पर मिथिला पेंटिंग का काम लोकल कलाकार को दिया गया ताकि दीवारें सुन्दर दिखे और मिथिला पेंटिंग का प्रचार प्रसार भी हो सके साथ ही बेरोजगार हुए लोगो को रोजगार के अवसर भी मिलते रहे

घर में काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश है खुद को खुद किस्मत मानते है कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए है काम मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है घर में काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश है खुद को खुद किस्मत मानते है कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए है काम मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है. घर में काम मिलने से ये सभी कलाकार बेहद खुश है खुद को खुद किस्मत मानते है कि उन्हें ऐसे समय में यह काम मिला है जब ज्यादातर लोग बेरोजगार हुए है काम मिलने से थोड़ी आमदनी के आस जगे जिससे परिवार चलाने में आसानी हो रही है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.