भारत की सबसे बड़ी हाउसिंग फाइनेंस कंपनी DHFL हुआ कंगाल, बचना मुश्किल

Girish Malviya…जिये दूसरा विकेट भी गया। …भारत की सबसे बड़ी हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों में से एक, दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्प लिमिटेड (DHFL) ने चेतावनी दी कि उसकी वित्तीय स्थिति इतनी खराब हो गई है कि अब कंपनी का बचना मुश्किल है.हमने ऐसे ही नहीं IL&FS संकट की तुलना लेहमैन ब्रदर्स से की थी अभी तो और भी कम्पनिया डूबने जा रही है.

31 मार्च को समाप्त हुए चौथी तिमाही के रिजल्ट नोट में डीएचएफएल के चैयरमैन एंड मैनेजिंग डायरेक्टर कपिल वाधवन कहा था कि मौजूदा हालात को देखते कंपनी के आगे चलने पर संदेह है.


चुनाव से कुछ महीने पहले पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी डीएचएफल पर लगे 31,000 करोड़ रुपये की वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों की जांच की मांग की थी यह मांग जर्नलिस्टिक स्टिंग ऑपरेशन के लिए जानी जाने वाली कोबरापोस्ट वेबसाइट द्वारा किये गए एक स्टिंग के तुरंत बाद की गयी थी। कंपनी पर आरोप था कि उसने 97000 करोड़ रुपये के कुल बैंक लोन में से 31000 करोड़ रुपये का इस्तेमाल मुखौटा कंपनियों कर्ज देने में किया। इस आरोप के बाद सिन्हा ने कहा कि सरकार कंपनी पर लग रहे विभिन्न आरोपों की जांच का आदेश तत्काल जारी नहीं करती तो इससे सरकार की नीयत पर सवाल खड़े होंगे। लेकिन नक्कारखाने में तूती की आवाज कौन सुनता है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.