1 अप्रैल से पटना की सड़कों पर नहीं चलेगी पेट्रोल-डीजल वाली बस, नियम तोड़ने पर गाड़ी जब्त

राजधानी की सड़कों पर पहली अप्रैल से नहीं चलेंगे डीजल बस-ऑटो…12000 से अधिक गाड़ियां होंगी शहर से बाहर, डीजल गाड़ी चलाने पर की जाएगी जब्त : 31 मार्च तक ही शहर में डीजल बस और ऑटो चलाने के लिए डेडलाइन दी गई है। अगर सरकार ने डेट आगे नहीं बढ़ाया तो हमलोग 1 अप्रैल से शहर में डीजल बस और ऑटो नहीं चलने देंगे। बस और ऑटो मालिक को गाड़ियां शहर से बाहर करने के लिए कहा जाएगा। नहीं माने तो गाड़ियों को सीज किया जाएगा।-श्रीप्रकाश, डीटीओ

राजधानी की सड़कों पर 1 अप्रैल से डीजल बस और ऑटो नहीं चलेंगे। एक साथ करीब 250 डीजल बस अाैर 12 हजार डीजल ऑटो शहर से बाहर हाे जाएंगे। परिवहन विभाग ने 31 मार्च तक ही शहर में डीजल बसें और ऑटो चलाने की अनुमति दी है। वायु प्रदूषण नियंत्रण को लेकर एेसा निर्णय लिया गया है। दरअसल, वर्ष 2019 में पटना वायु प्रदूषण के मामले में देश में टॉप पर पहुंच गया था। यहां का एक्यूआई लेवल 400 के पार चला गया था। इसकी सबसे बड़ी वजह गाड़ियों से निकलने वाला प्रदूषण है। इसके बाद सरकार ने डीजल गाड़ियाें के परिचालन पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया।

कैबिनेट ने 2019 में ही निर्णय लिया कि पटना नगर निगम क्षेत्र के साथ ही दानापुर, खगौल और फुलवारीशरीफ में 31 जनवरी 2020 से डीजल वाली गाड़ियों का परिचालन बंद कर दिया जाएगा। लेकिन, इसे 31 मार्च, 2021 तक के लिए डेट बढ़ा दिया गया। इसके बाद 30 सितंबर की नई तारीख तय की। इसके बाद 31 मार्च 2022 तक की माेहलत दी गई ताकि लाेग अपनी डीजल गाड़ियाें काे सीएनजी में कन्वर्ट करा सकें। परिवहन विभाग अब और माेहलत देने के मूड में नहीं है।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.