वापस लौटने लगे बिहारी प्रवासी मजदूर, बिहार से दिल्ली-मुम्बई जाने वाली ट्रेनों में उमड़ी भीड़

फैक्ट्री मालिकों की कम होगी टेंशन, बिहार से काम पर लौटने लगे मजदूर

अनलॉक-01 शुरू होते ही जिंदगी की चाल रफ्तार पकड़ती नजर आ रही है। मजूदरों ने घरों से दूर काम पर वापसी शुरू कर दी है। गजरौला रेलवे स्टेशन पर सुबह सत्याग्रह एक्सप्रेस से बिहार राज्य के निवासी 74 मजदूर काम पर वापस आ गए। सभी बछरायूं की एक मीट फर्म में काम करते थे। लॉकडाउन के दौरान सभी घर चले गए थे, लेकिन फर्म के खुलने की सूचना पर वापस लौटे हैं। थर्मल स्क्रीनिंग के बाद फिलहाल सभी को बछरायूं की संबंधित फर्म में ही क्वारंटाइन किया गया है।

अनलॉक-01 शुरू होते ही जिंदगी की चाल रफ्तार पकड़ती नजर आ रही है। मजूदरों ने घरों से दूर काम पर वापसी शुरू कर दी है। गजरौला रेलवे स्टेशन पर सुबह सत्याग्रह एक्सप्रेस से बिहार राज्य के निवासी 74 मजदूर काम पर वापस आ गए। सभी बछरायूं की एक मीट फर्म में काम करते थे। लॉकडाउन के दौरान सभी घर चले गए थे, लेकिन फर्म के खुलने की सूचना पर वापस लौटे हैं। थर्मल स्क्रीनिंग के बाद फिलहाल सभी को बछरायूं की संबंधित फर्म में ही क्वारंटाइन किया गया है।

सत्याग्रह एक्सप्रेस गजरौला रेलवे स्टेशन पर सुबह रुकी। ट्रेन में सवार बिहार राज्य के निवासी 74 मजदूर भी ट्रेन से स्टेशन पर उतरे। जानकारी होने पर रेलवे प्रशासन के बीच हड़कंप मच गया। आनन-फानन जीआरपी-आरपीएफ और रेलवे अफसर अलर्ट हो गए। रेलवे स्टेशन परिसर की सुरक्षा बढ़ा दी गई। जीआरपी और आरपीएफ जवानों ने मजदूरों को प्लेटफार्म से बाहर जाने से रोक दिया। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर सभी की थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई। स्वास्थ्य जांच में सभी के स्वस्थ मिलने पर अफसरों ने राहत की सांस ली।

पूछताछ में पता चला कि गजरौला पहुंचे ये सभी मजदूर बछरायूं की मीट सप्लाई करने वाली फर्म में काम करते हैं, जो लॉकडाउन खत्म होने के बाद अब काम पर वापस लौटे हैं। इसके बाद फर्म की बसों के जरिए सभी मजदूरों को बछरायूं रवाना किया गया। स्वास्थ्य अफसरों ने बतौर एहतियात सभी को अगले 14 दिन के लिए फर्म में ही क्वारंटाइन किया है।

रेलवे अफसरों को नहीं थी कोई पूर्व जानकारी
एक साथ 74 मजदूरों के गजरौला रेलवे स्टेशन पर उतरने को लेकर पूर्व में रेलवे या पुलिस-प्रशासनिक अफसरों को कोई जानकारी नहीं थी। एकाएक जब ट्रेन से भीड़ उतरी तो वहां तैनात जीआरपी-आरपीएफ और रेलवे अफसरों के भी हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन मजदूरों को वहीं रोक उनकी थर्मल स्क्रीनिंग कराने और जांच में सभी के स्वस्थ मिलने के बाद ही आगे की ओर रवाना किया गया।

डा.योगेंद्र सिंह, सीएचसी अधीक्षक ने बताया कि सभी मजदूर जांच में स्वस्थ मिले हैं। सभी को अगले 14 दिन के लिए उनकी ही फर्म में क्वारंटाइन किया गया है। इस दौरान कोई भी मजदूर फर्म परिसर से बाहर नहीं निकलेगा। स्वास्थ्य विभाग की टीमें भी लगातार निगरानी करेंगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *