भाई-बहन की शादी को देखने उमड़ी लोगों की भीड़, घोड़ी पर चढ़कर दोनों ने ए​क ही दिन बसाया अपना घर

NEW DELHI – भाई के साथ बहन भी चढ़ी घोड़ी, दोनों की शादी एक ही दिन, लड़की के बैठते डांस करने लगी, दूल्हा बोला-मैं बैठ सकता हूं तो बहन क्यों नहीं, पिता ने बेटी के लिए बुक की थी बग्घी, घोड़ी पर बैठकर मंडप पहुंची दुल्हन, ‘पिताजी ने बहन के लिए बग्घी की बुकिंग की थी, लेकिन बहन मुस्कान की इच्छा घोड़ी पर बैठने की थी। घोड़ी पर बैठकर मुस्कान काफी खुश थी।’

अक्सर देखा जाता है कि दूल्हा घोड़ी पर सवार होकर अपनी दुल्हन को लेने पहुंचता है, लेकिन झाबुआ जिले के रायपुरिया गांव में कुछ अलग ही नजारा देखने को मिला है। दूल्हे बने भाई ने दूल्हन बनी बहन की घोड़ी पर बैठने की इच्छा को पूरा कर दिया। यहां एक ही दिन हुई भाई-बहन की शादी में दोनों घोड़ी पर बैठकर निकले। गांव में पहली बार घोड़ी पर बैठी दुल्हन पर सबकी नजरें थम गई थीं। लड़की के बैठते ही घोड़ी डांस करने लगी। वहां मौजूद परिजनों और रिश्तेदारों ने यह नजारा अपने फोन के कैमरे में कैद कर दिया।

दरअसल, रायपुरिया गांव के कुलदीप और उनकी बहन मुस्कान की शादी एक ही दिन हुई थी। इस मौके पर मंडप तक पहुंचने के लिए भाई के लिए घोड़ी और बहन के लिए बग्घी मंगवाई गई थी। मुस्कान की इच्छा मन में घोड़ी पर बैठने की थी। इसे भाई कुलदीप ने पूरा किया। कुलदीप ने अपनी बहन को भी घोड़ी पर बैठाकर बनोला (बारात) निकाला।

रायपुरिया गांव में ऐसा पहली बार हुआ कि दुल्हन घोड़ी पर बैठकर मंडप तक पहुंची। दोनों भाई-बहन का बनोला एक साथ निकला। भाई ने बताया कि ‘जब मैं घोड़ी पर बैठ सकता हूं, तो बहन क्यों नहीं बैठ सकती?’

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.