एक पति और तीन-तीन पत्नी, एक से दिन में, दूसरी से रात में और तीसरी से गांव जाकर प्यार करता था

PATNA-एक व्यक्ति की तीन-तीन पत्नियों की कहानी का खुलासा हुआ है. मिली जानकारी के अनुसार गिरिडीह के घोडथंबा ओपी के मरपोका में एक युवक सिकंदर विश्वकर्मा की तीन पत्नियां हैं. पहली पत्नी गिरिडीह जिले के मरपोका गांव की है. दूसरी पत्नी रजनी दिल्ली और तीसरी पत्नी उत्तर प्रदेश की रहने वाली है, लेकिन वह दिल्ली में ही रहती है. इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब दूसरी पत्नी रजनी पति को खोजते हुए अपने ससुराल घोडथंबा के मरपोका गांव पहुंची. यहां पहुंचने पर पता चला कि यहां भी उसकी एक पत्नी बसंती है. बसंती को 2 पुत्र व एक पुत्री है. इसके बाद तो थोड़ी देर के लिए वहां मच गया. वहीं अब इस मामले में पत्नी न्याय के लिए पुलिस के पास जाने की बात कह रही है.

एक को दिन में तो दूसरी को रात में देता था टाइम
बताया जाता है कि सिकंदर पिछले 15 सालों से दिल्ली में रहता है. वह दिल्ली के अनंत राज कंपनी में काम करता था. रजनी भी वहीं काम करती थी. सिकंदर ने रजनी को प्रेम जाल में फंसाया और 1 जुलाई 2014 को उससे शादी कर ली. इसके बाद सिकंदर ने 2020 में यूपी की रहने वाली अंजली ढाका को भी अपने प्रेम जाल में फंसा कर शादी कर ली. हालांकि अंजलि भी दिल्ली में ही रहती थी. इसलिए सिकंदर फिल्मी अंदाज में दिल्ली में रहने वाली दोनों पत्नियों को समय देता रहा. एक को दिन में तो दूसरी को रात में समय देता था. लेकिन, इसी बीच एक दिन सिकंदर का मोबाइल रजनी के पास छूट गया और तभी फोन से तीसरी पत्नी से बातचीत की रिकॉर्डिंग सामने आ गई.

चर्चाओं का बाजार हुआ गर्म
इसी बीच दूसरी पत्नी मारकोपा गांव पहुंची जिसके बाद पूरे मामले का खुलासा हो गया. सिकंदर विश्वकर्मा ने अपनी तीनों पत्नियों से छिपा कर रखा कि उसकी शादी हो चुकी है. जब इस बात का खुलासा हुआ तो पूरे इलाके में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया. लोग गली, मोहल्ला चौक-चौराहों पर इस घटना की चर्चा कर रहे हैं. कई लोग हंस रहे हैं तो कई लोग गुस्से में भी है. हालांकि इस मामले में अब पत्नी अब थाना जाकर न्याय की गुहार लगाने की बात कह रही है.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.