पटना-हाजीपुर के बीच जाम खत्म, बनकर तैयार हुआ गांधी सेतु, कल से शुरू होगा गाड़ियों का परिचालन

कल से शुरू हो जाएगा महात्मा गांधी सेतु, 100 साल की होगी उम्र, 5 करोड़ लोगों को मिलेगी राहत : उत्तर बिहार की लाइफ लाइन कहा जाने वाला महात्मा गांधी सेतु (Mahatma Gandhi Setu) नए अंदाज में शुक्रवार से बिहार के लोगों के लिए फिर से खुल जाएगा.

उत्तर बिहार के जिलों को राजधानी पटना से सड़क के रास्ते जोड़ने वाले गांधी सेतु (Patna Gandhi Setu) का पश्चिमी लेन बनकर तैयार है जिसका उदघाटन कल 31 जुलाई को 11 बजे केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और मुख्य्मंत्री नीतीश कुमार करेंगे. लगभग तीन साल में बने इस सुपर स्ट्रक्चर जो कि लोहा और स्टील का बना है, की आयु 100 साल बताई जा रही है.

उत्तर बिहार के लोगों को पटना से जोड़ता है ये पुल : कल उद्घाटन के साथ ही इस लेन से सारी बड़ी गाड़ियां चलनी शुरू हो जाएंगी. इसका फायदा सीधे तौर पर उत्तर बिहार के करीब पांच करोड़ लोगों को होगा जो राजधानी समेत बिहार के अन्य हिस्सों में सड़क मार्ग से आने जाने के लिए इस पुल का उपयोग करते हैं. पश्चिमी लेन के शुरू होने के बाद उत्तर बिहार जाने वालों के लिए बड़ी राहत साबित होगी.

नए अंदाज में लोगों की सेवा के लिए तैयार हुए गांधी सेतु का पश्चिमी हिस्सा दो लेन का है. बरसात के बाद पूर्वी लेन के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ किया जाएगा. 1742.01 करोड़ की लागत से बनने वाले इस पुल में 66,360 मीट्रिक टन लोहे का उपयोग उपयोग किया जाना है.हावड़ा ब्रिज की तर्ज पर किया गया है डिजाइन : अगले डेढ़ वर्ष के अंदर पूर्वी लेन के जीर्णोद्वार का काम भी पूरा कर कर लिए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

आने वाले दिनों में पुल के दोनों लेन पर गाड़ियां फर्राटा भरेगी. हावड़ा ब्रिज के तर्ज पर डिजाइन किए गए इस पुल के सभी पाए जहां पुराने कंक्रीट के बने हैं, वही पुल का सुपर स्ट्रक्चर लोहे का बना है. गौरतलब है कि पुल के जीर्णोद्वार कार्य के पूर्व आईआईटी रुड़की की टीम ने पुल के सभी पायो को पूरी तरह मजबूत और सुदृढ़ पाया था.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *