गांधी सेतू के पूर्वी लेन पर ट्रायल रहा सफल, 7 जून से दोनो तरफ से तेज स्पीड में चलेंगी गाड़ियां

मजबूती जांच में गांधी सेतु की पूर्वी लेन पास, 5 साल बाद दोनों लेन पर चलेंगी गाड़ियां : महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी लेन की सुविधा 7 जून से शुरू होगी। इससे पहले सेतु को मजबूती के विभिन्न पैरामीटर्स को परखने के लिए सेतु पर 25-25 टन वजनी 18 ट्रकों को सेतु के विभिन्न हिस्साें में 36 घंटे तक रखा गया। इसके बाद सेतु के डिप्लेक्शन की जांच हुई। मानकों पर खरा उतरने के बाद सेतु की मजबूती पर मुहर लग गई।

सूक्ष्मता से हुई है जांच : 5.575 किमी लंबे गांधी सेतु के पूर्वी लेन के पूरे हिस्से की सूक्ष्मता से जांच हुई है, ताकि कोई तकनीकी खामी रहने पर उसे तत्काल ठीक किया जा सके। इसी महीने के अंत तक पूर्वी लेन पूरी तरह से ट्रैफिक के लिए तैयार हो जाएगा। 7 जून से एक साथ दोनों लेन पर गाड़ियां भरेंगी फर्राटा, जून 2022 में पांच वर्षों के बाद महात्मा गांधी सेतु का दोनों लेन एक साथ चालू होगा। 25-25 टन वजन के साथ 18 ट्रक पुल पर खड़े रखे { वर्ष 2014 में गांधी सेतु की जर्जर हालत को देख मरम्मत पर सहमति बनी थी। 36 घंटे तक जांंच { 2017 में पुनर्निर्माण शुरू हुआ पहले पश्चिमी लेन का हुआ। एक लेन चालू थी। { जून 2020 में पश्चिमी लेन का काम पूरा हुआ और पूर्वी का शुरू हुआ।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.