अब पटना एयरपोर्ट को भी बनाया जाएगा अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के लायक, होंगे इमिग्रेशन काउंटर

Patna: अब पटना एयरपोर्ट को भी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के लायक बनाया जाएगा. यहां हर तरह की सुविधा होगी, जो अंतराष्ट्रीय उड़ान वाले एयरपोर्ट पर होती है. इमिग्रेशन काउंटर होंगे और कस्टम विभाग के अधिकारियों की भी तैनाती होगी.

एयरपोर्ट के निर्माण के दौरान यह ध्यान रखा जा रहा है कि अत्याधुनिक सुविधाओं वाले एयरपोर्ट की तर्ज पर इसे विकसित किया जाय. आरंभिक सूचना के अनुसार भविष्य में नेपाल और अन्य जगहों पर छोटे जहाजों के जरिये अंतर्राष्ट्रीय उड़ान की भी तैयारी है. एयरपोर्ट परिसर को विस्तार देने के लिए निर्माण का काम शुरू हो गया है लेकिन निर्माण कार्यों की धीमी गति की वजह से इसमें एक साल की देरी संभावित है. यानि अब 2022 में निर्माण कार्य पूरा न होकर 2023 में यह पूरा हो सकेगा.

अभी पटना एयरपोर्ट पर 4.5 मिलियन पैसेंजर हर साल आते-जाते हैं. नए निर्माण के बाद यह 8 मिलियन पैसेंजर की सालाना क्षमता वाला हो जाएगा. एयरपोर्ट के निर्माण में कुल 1216.90 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी. शानदार टर्मिनल बिल्डिंग के अलावा पटना एयरपोर्ट पर मल्टीलेवल कार पार्किंग, कार्गो कॉम्प्लेक्स, एयरपोर्ट फायर स्टेशन, एटीसी सह प्रशासनिक भवन बनेंगे. दो मंजिले टर्मिनल बिल्डिंग में उड़ान भरने के लिए यात्रियों को पहले तल्ले पर जाना होगा. जबकि आगमन एरिया निचले तल्ले पर निर्धारित किया गया है. पीर अली पथ से एलिवेटेड रास्ते से यात्री परिसर में जा सकेंगे. परिसर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यात्रियों के इस्तेमाल के लिए नए परिसर में कुल सात लाख स्क्वॉयर फीट जगह होगी.

नए परिसर में दिल्ली, कोलकाता और बेंगलुरु एयरपोर्ट जैसी सुविधा देने की तैयारी है. इसके लिए टर्मिनल बिल्डिंग में स्वचालित सीढ़ियां, लिफ्ट और पांच एरोब्रिज बनाये जाएंगे. हालांकि परिसर में 14 विमानों की पार्किंग के लिए जगह रहेगी लेकिन पांच पार्किग एरोब्रिज से जुड़े रहेंगे. इससे जाड़ा, गर्मी या बरसात सभी मौसमों में यात्रियों को विमान से आने-जाने में सुविधा होगी. एयरपोर्ट पर बनने वाले एरोब्रिज में बिहार की लोककलाएं दिखेंगी. साथ ही टर्मिनल बिल्डिंग में भी जगह-जगह मधुबनी पेंटिंग और टिकुली कला की झलक दिखेगी. एयरपोर्ट का लुक नालंदा के खंडहर की तरह का होगा. परिसर के सामने एक शानदार बाग भी बनाया जाएगा, जिसे मधुबन नाम दिया गया है. ऊर्जा संरक्षण और हरित पट्टी का ध्यान भी रखा जाएगा. नए इंटीग्रेटेड बिल्डिंग एनर्जी इफिसिएंसी में 4 सितारा गृह रेटेड होगा.

एयरपोर्ट पर पांच मंजिले पार्किंग का निर्माण कार्य जारी है. इस पार्किंग में कुल 750 वाहनों को पार्क किया जा सकेगा. टर्मिनल बिल्डिंग परिसर में 62 हज़ार स्क्वायर फीट कॉमर्शियल एरिया भी निर्धारित किया गया है, जहां वर्ल्ड क्लास शॉपिंग की सुविधाएं मिलेंगी.

अभी पटना एयरपोर्ट पर 4.5 मिलियन पैसेंजर हर साल आते-जाते हैं. नए निर्माण के बाद यह 8 मिलियन पैसेंजर की सालाना क्षमता वाला हो जाएगा. एयरपोर्ट के निर्माण में कुल 1216.90 करोड़ खर्च होंगे. शानदार टर्मिनल बिल्डिंग के अलावा पटना एयरपोर्ट पर मल्टीलेवल कार पार्किंग, कार्गो कॉम्प्लेक्स, एयरपोर्ट फायर स्टेशन, एटीसी सह प्रशासनिक भवन बनेंगे. दो मंजिले टर्मिनल बिल्डिंग में उड़ान भरने के लिए यात्रियों को पहले तल्ले पर जाना होगा. जबकि आगमन एरिया निचले तल्ले पर निर्धारित किया गया है. पीर अली पथ से एलिवेटेड रास्ते से यात्री परिसर में जा सकेंगे.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *