फिलीपींस के भारतीय दूतावास में तैनात IFS अधिकारी निशिकांत ने किया छठ

फिलीपींस से संध्या अर्घ्य की तस्वीर. फिलीपींस में भारत के दूतावास में प्रथम सचिव के रूप में तैनात IFS अधिकारी निशिकांत ने किया है छठ। मन चंगा तो कठौती में गंगा. फिलीपींस से छठ महापर्व की तस्वीर

टोरेंटों में कम्युनिटी के साथ होती है छठ की पूजा :लगभग दस साल से टोरेंटो में रह रहीं लता पांडेय अपनी परंपरा से न तो खुद दूर हुईं, न ही स्वजनों को होने दिया। लता अपने परिवार के साथ मिलकर बिहार-झारखंड कम्युनिटी में जाकर छठ व्रत करती हैं और वहीं पूजा-अर्चना भी। इसी कम्युनिटी मेंं सभी लोग मिलकर एक साथ पूजा करते हैं और प्रसाद बनाने में भी मदद करते हैं। लता बताती हैं, कम्युनिटी के सभी लोग एक साथ भारत के सारे पर्व मनाते हैं। बिहार कम्युनिटी की वंदना बताती हैं, सभी एक जगह एकत्रित होते हैं। किसी फील्ड या पूल में जाकर छठ मनाते हैं।

स्पेशल ऑर्डर पर मंगवाते सामान :तंजानिया में रहने वालीं सीमा शील अपने पति विवेक शील के साथ 15 साल से विदेश में छठ कर रही हैं। बताती हैं, छठ के समय स्पेशल ऑर्डर पर पूजा का कुछ सामान मंगाना पड़ता है। जैसे हमें पत्ते वाली ईख चाहिए होती है तो इसके लिए काफी पहले से ऑर्डर देना पड़ता है। अब तंजानिया के लोग भी छठ के महात्म्य से वाकिफ हो चुके हैं, इसलिए वे भी प्रसाद बनाने में मदद करते हैं और खाते भी हैं। हम अपने घर में ही टब में पूजा कर लेते हैं, जिसे देखने तंजानिया के लोग भी आते हैं।

केन्या में 15 साल से बेबी पूल में छठ करती हैं मंजू :पिछले 15 साल से केन्या में रहने वालीं मंजू द्विवेदी बताती हैं, शुरू से ही वह अपने घर में रहकर पूजा कर रही हैं। मंजू कहती हैं, केन्या के लोगों को छठ के बारे में कोई जानकारी नहीं है। छठ बहुत साफ-सफाई वाला पावन पर्व है, इसलिए घर पर ही बेबी पूल में भगवान भास्कर की पूजा करती हैं। वह बताती हैं, पूजन की सारी सामग्री वह भारत से विशेष तौर पर ऑर्डर देकर मंगवाती हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *