मुस्लिम महिलाओं ने भी मनाई जन्माष्टमी, बच्चाें काे श्रीकृष्ण वेशभूषा में सजा कर मक्खन खिलाया

मुजफ्फरपुर : यह तस्वीर शहर के छाता बाजार की है। यहां श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर मुस्लिम महिलाअाें ने अपने बच्चाें काे श्रीकृष्ण वेशभूषा में सजा कर मक्खन खिलाया। उसी रूप में बच्चाें संग बाजार भी निकलीं। छात्रा स्वीटी हसन, गृहिणी नीलू परवीण, छात्राएं चांदनी अाैर चंदा परवीण ने बताया कि अब समय रूढ़ियाें से ऊपर उठने का है। शिक्षा के प्रसार के साथ सामाजिक साेच में परिवर्तन अा रहा है। वैसे भी राधा-कृष्ण स्नेह-प्रेम की प्रतिमूर्ति हैं। हम भी बच्चाें संग श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का अानंद ले रहे हैं।

इस साल कृष्ण जन्माष्टमी ( Krishna Janamashtami 2020) का त्योहार 11-12 अगस्त को मनाया जाएगा। 12 अगस्त को कृतिका नक्षत्र लगेगा। जबकि चंद्रमा मेष और सूर्य राशि में संचार करेंगे। कृतिका नक्षत्र और राशियों की स्थिति के कारण वृद्धि योग बन रहा है। दरअसल, माना जाता है कि भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद यानी कि भादो माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। ऐसे में अगर कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को देखा जाए तो जन्माष्टमी 11 अगस्त की होनी चाहिए, लेकिन अगर रोहिणी नक्षत्र की मानें तो फिर 12 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जानी चाहिए। बता दें कि कुछ लोगों के लिए अष्टमी तिथि का महत्व अधिक होता है तो वहीं कुछ अन्यों के लिए रोहिणी नक्षत्र का महत्व होता है। ऐसे में मथुरा में जन्माष्टमी 12 अगस्त को मनाई जा रही है। वहीं नंदलाल के गांव ब्रज में 11 अगस्त को धूमधाम से जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाएगा।

कब मनाई जाएगी जन्माष्टमी? : हिंदू पंचांग के मुताबिक कृष्ण जन्माष्टमी भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि यानि कि आठवें दिन मनाई जाती है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार हर साल अगस्त या फिर सितंबर के महीने में जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाता है। तिथि के मुताबिक जन्माष्टमी का त्योहार 11 अगस्त को मनाया जाएगा। वहीं रोहिणी नक्षत्र को अधिक महत्व देने वाले लोग 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *