गिरिराज को JDU का दो टूक जवाब, मरने का मन करता है तो आत्महत्या कर लीजिये, किसने रोका है आपको

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के आत्मह”त्या वाले बयान का जदयू ने करारा जवाब दिया है। जदयू नेताओं ने सवालिया लहजे में कहा कि उनको (गिरिराज) रोका किसने है? सोमवार को ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि गिरिराज सिंह हकीकत को देखकर बयान दिया करें। गिरिराज सिंह को आत्मह”त्या करने वाला बयान नहीं देना चाहिए। वैसे दुनिया में अगर किसी ने आत्मह”त्या करने का फैसला कर ही लिया तो उसको कोई रोक सकता है क्या? गिरिराज सिंह ने रविवार को बेगूसराय में बिहार सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कहा था कि बाढ़ पीड़ितों को राहत नहीं मिल रही है। हम जनप्रतिनिधि हैं। ऐसे में हमारे पास दो ही रास्ते हैं, या तो आत्मह”त्या कर लें या कुछ ना बोलें?

श्रवण कुमार ने कहा कि बिहार में बाढ़ और सुखाड़ को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पूरी तरह से जनता के साथ खड़े हैं। मुख्यमंत्री ने यहां तक कह दिया है कि राज्य के खजाने पर पहला अधिकार आपदा पीडि़तों का है। ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि आनेवाले विधानसभा और लोकसभा उपचुनाव में बिहार में एनडीए की बड़ी जीत होगी। हमारे नेता, अध्यक्ष और एनडीए के नेता बैठकर तय करेंगे कि उपचुनाव में कौन-कहां से चुनाव लड़ेगा? वैसे तो हमें भाजपा के नेताओं के बयानों से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन दिक्कत आएगी तो हम उसका सामना करेंगे। शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा ने गिरिराज पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोगों को चर्चा में रहने के लिए बयान देने की आदत होती है। बिहार में एनडीए मज़बूत है और हमारे बीच कोई तल्खी नहीं है।

जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि एक केंद्रीय मंत्री का ऐसा अशोभनीय आचरण फूहड़ राजनीति का परिचायक है। गिरिराज को ऐसे शर्मनाक बयान देने की बजाए अपने मंत्रालय पर ध्यान देना चाहिए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *