बिहार में JEE-NEET परीक्षा को मिली हरी झंडी, गृह सचिव बोले-कोई बाधा नहीं

Patna: नीट और जेईई परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को बिहार में कोई परेशानी नहीं होगी। सरकार ने परीक्षा को हरी झंडी दे दी है। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने कहा कि अभी जो व्यवस्था है, उसमें परीक्षा होने में कोई रुकावट नहीं है। कोरोना संक्रमण को देखते हुए बिहार में प्रतिबंधों के साथ अनलॉक थ्री प्रभावी है। स्कूल-कॉलेज व अन्य शिक्षण संस्थान भी बंद हैं। लेकिन गृह विभाग ने कहा है कि परीक्षा में कोई रुकावट नहीं होगी। राज्य में नीट की परीक्षा के लिए पटना और गया दो शहरों में सेंटर होंगे। कोरोना काल में बिहार में पहली बार परीक्षा होगी।

जेईई मेन एक सितंबर से शुरू होगा, जिसमें बिहार के 43 केंद्रों पर 61,583 परीक्षार्थी भाग लेंगे। एडमिट कार्ड जारी हो चुका है, सेंटर लोकेटर भी उपलब्ध करा दिया गया है। बिहार में सात जिलों में केंद्र हैं, जिसमें सर्वाधिक 20 केंद्र पटना में बनाए गए हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि अधिकतर विद्यार्थियों ने अपने केंद्र के लिए पटना का चयन किया है।

राज्य के नौ प्रमंडलों में से तीन प्रमंडल सारण, कोसी और मुंगेर ऐसे हैं कि इनमें जेईई मेन का कोई केंद्र नहीं बनाया गया है। इन तीन प्रमंडलों में बिहार के 38 में से 12 जिले आते हैं। यानी लगभग 30 फीसदी जिलों में जेईई मेन के लिए केंद्र नहीं है। राजधानी पटना के बाद सबसे अधिक केंद्र मुजफ्फरपुर में बनाए गए हैं। उत्तर बिहार के जिलों में मुजफ्फरपुर के छह केंद्रों के अलावा दरभंगा में पांच केंद्र बनाए गए हैं। जबकि भागलपुर व गया में चार-चार और पूर्णिया व आरा में दो-दो केंद्र बनाए गए हैं।

12 शिफ्टों में इस बार होगा आयोजन
जेईई मेन एक से छह सितंबर तक आयोजित किया जाएगा, जिसके लिए 61,583 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इससे पहले जनवरी में हुए जेईई मेन में 53,060 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। तब एनटीए ने 27 केंद्र बनाए थे। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए केंद्रों की संख्या बढ़ाने के साथ शिफ्ट की संख्या भी बढ़ी है। जनवरी का जेईई मेन आठ शिफ्टों में आयोजित किया गया था जबकि सितंबर का जेईई मेन 12 शिफ्टों में आयोजित किया जाएगा।

एसटीईटी: तीन पालियों में होगी जूता-मोजा पहन आने पर रोक

माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) 2019 की पुनर्परीक्षा 9 से 21 सितंबर तक 3 पालियों में ऑनलाइन होगी। पहली पाली सुबह 8 बजे से, दूसरी 12 बजे और तीसरी शाम 4 बजे से ली जाएगी। अवधि 2.30 घंटे की होगी। अभ्यर्थियों के जूता-मोजा में आने पर रोक होगी। मोबाइल सहित अन्य गैजेट नहीं ले जा सकेंगे। एक घंटा पहले रिपोर्ट करना होगा। आधा घंटा पहले तक प्रवेश मिलेगा। परीक्षा पटना, भोजपुर, नालंदा, औरंगाबाद, गया, छपरा, वैशाली, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, भागलपुर एवं पूर्णिया के चुनिंदा केंद्रों पर होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *