मैं राम को भगवान नहीं मानता, मांझी बोले- सवर्ण बाहरी, ब्राह्मणों से पूजा ना कराएँ दलित

‘राम रामायण के पात्र, मैं भगवान नहीं मानता’: बिहार के पूर्व CM मांझी ने कहा- सवर्ण बाहरी, ब्राह्मणों से पूजा ना कराएँ दलित : बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री रह चुके हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (HAM) के चीफ जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने भगवान राम के अस्तित्व पर सवाल उठाया है। उन्होंने भगवान राम को मानने से इनकार करते हुए उन्हें केवल तुलसीदास रचित रामचरितमानस और महर्षि वाल्मीकि की रामायण का एक पात्र मात्र करार दिया है। मांझी ने अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों से पूजा-पाठ नहीं करने और मांसाहार करने वाले ब्राह्मणों से दूर रहने की अपील की है।

बिहार सरकार में एनडीए के सहयोगी मांझी सुर्खियों में बने रहने के लिए अक्सर इस तरह के बयान देते रहते हैं। वो ब्राह्मणों पर भी विवादित बयान दे चुके हैं। गुरुवार (14 अप्रैल 2022) को संविधान निर्माता बाबासाहेब डॉ भीमराव अंबेडकर की जयंती थी और जीतन राम मांझी को बिहार के जमुई के एक कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया। अपना नंबर आते ही मांझी स्टेज से हिंदू सभ्यता और संस्कृति के खिलाफ बयानबाजी करने लगे। उन्होंने भगवान राम को काल्पनिक पात्र करार देते हुए कहा, “मैं राम को भगवान नहीं मानता।”

उन्होंने कहा, “रामायण में राम को लेकर अच्छी बातें लिखी गई हैं, इसलिए मैं उसे मानता हूँ, लेकिन राम को नहीं मानता। राम ने शबरी के जूठे बेर खाए थे, लेकिन हमारे घरों में कोई खाना नहीं खाता है।” उन्होंने अनुसूचित जाति के लोगों से पूजा-पाठ छोड़ने की अपील करते हुए कहा कि पूजा करने से कोई बड़ा थोड़े हो जाता है।

मांझी ने ब्राह्मणों से पूजा-पाठ नहीं कराने को लेकर कहा कि मांस खाने वाले, शराब पीने वाले और झूठ बोलने वाले ब्राह्मणों से दूर ही रहना चाहिए। ऐसे ब्राह्मणों से पूजा कराना पुण्य नहीं, पाप है। उन्होंने कहा कि भारत के असली लोग केवल अति पिछड़े, दलित और आदिवासी हैं। ऊँची जाति वाले लोग भारत के मूल निवासी नहीं, बल्कि बाहरी हैं।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.