विधानसभा में सभापति ने सुनाया दिलचस्‍प किस्‍सा, पहले पिया थे, अब PA हो गए…

Desk: अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस के मौके पर बिहार विधान परिषद (Bihar Legislative Assembly) में सभापति अवधेश नारायण सिंह (Avadhesh Narayan Singh) ने कैमूर (Kaimur) का एक किस्सा सुनाया, जिसे सुनकर सभी सदस्‍य मुस्‍कुरा उठे। यह किस्‍सा महिला जनप्रतिनिधियों को खास तौर पर रास आया। कई को तो यह किस्‍सा खुद पर भी फिट लगा।

हालांकि यह किस्‍सा बिहार के पंचायत जनप्रतिनिधियों से जुड़ा था। सभापति ने इसके जरिये बिहार में महिला सशक्‍तीकरण (Women empowerment) की दिशा में किए गए प्रयासों को सदस्‍यों के सामने रखा। बिहार में पंचायती राज व्‍यवस्‍था (Panchayati Raj in Bihar) में 50 फीसद पद महिलाओं के लिए आरक्षित (Reservation for women in Panchayati Raj in Bihar) किए गए हैं। कई जिलों में महिला पंचायत प्रतिन‍िधियों की संख्‍या 50 फीसद से भी अधिक है।

पार्कर ब्रांड की कलम देकर सभी सदस्‍यों को किया गया सम्‍मानित

महिला दिवस के मौके पर विघान परिषद की सभी महिला सदस्यों को पार्कर ब्रांड की कलम देकर सम्मानित किया गया। सभी सदस्यों ने भी अपने अभिभाषण में नारी शक्ति को नमन किया। इस दौरान सभापति ने कैमूर जिले के एक कार्यक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि एक कार्यक्रम के दौरान महिलाएं आगे बैठी थीं और उनके पति पीछे बैठे थे। जब पतियों से पूछा गया कि पंचायतों में महिला आरक्षण के बाद क्या बदलाव आया तो पति बोले कि पहले हम पिया थे, अब पीए हो गए हैं। बिहार में त्रिस्‍तरीय पंचायती राज व्‍यवस्‍था में महिलाओं को आरक्षण की व्‍यवस्‍था पूरे देश में नजीर बनी है और हर जगह इसकी सराहना होती है।

शुक्रवार की जगह शनिवार को चलेगा सदन

बिहार विधानमंडल के सदन 12 मार्च यानी शुक्रवार को नहीं चलेंगे। इसकी जगह 13 मार्च, शनिवार को बिहार विधानसभा और विधानपरिषद की कार्यवाही चलेगी। दोनों ही सदनों में कार्य मंत्रणा समिति के इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास कर दिया गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.