अभी-अभी : रेल मंत्री के फैसले पर बोले खान सर, पहले निर्णय लेते तो इतना हंगामा नहीं होता

रेल मंत्रालय की घोषणा के बाद बोले खान सर, पहले निर्णय लेते तो इतना उपद्रव नहीं होता : छात्रों के हंगामे पर प्रसिद्ध Youtuber और पटना के शिक्षक खान सर ने कहा कि एक टीचर गलत बोल सकता है लेकिन पूरे देश के टीचर और स्टूडेंट गलत नहीं बोलेंगे। छात्रों का आंदोलन जो उग्र हुआ इसके पीछे आरआरबी का सेकंड डिसिजन गलत था। रेलवे ने एक नोटिफिकेशन जारी किया था जिसमें डेढ़ करोड़ छात्र जिन्होंने ग्रुप डी का फॉर्म भरा था उनसे अब मेंस का एक्जाम लिया जाएगा।

छात्रों ने 2019 में फॉर्म भरा था और फरवरी में एक्जाम होना था। पन्द्रह दिन पहले आरआरबी की ओर से बताया गया कि मेंस का एक्जाम लिया जाएगा। आरआरबी के इस फैसले के बाद घर में बैठे डेढ करोड़ छात्र अन ऑरगेनाइजड तरीके से बिना किसी प्लान के सीधे रेलवे ट्रैक पर चले आए। जिस वजह से ये घटनाएं हुई।

खान सर ने कहा कि हमलोग तो छात्रों को ऐसा करने से रोक रहे है। प्रशासन का भी सहयोग कर रहे हैं। मंगलवार से हमलोग छात्रों को शांत कराने में लगे हैं लेकिन एक अकेला शिक्षक डेढ करोड़ छात्रों को कैसे संभालेगा। खान सर ने कहा कि आरआरबी ने जो अभी स्टेप लिया यदि यह स्टेप 18 जनवरी को लिया जाता तो इतना उपद्रव नहीं होता।

खान सर ने कहा कि छात्रों ने जो किया वह गलत है हम इसकी निंदा करते हैं। आरआरबी ने एक अच्छा स्टेप लिया है कि उसने सारे स्टूडेंट से अपनी सुझाव 16 फरवरी तक मांगा है और हरेक आरआरबी को यह निर्देश दिया गया है कि वे अपनी रिपोर्ट 4 मार्च तक दें। रेलवे मंत्रालय की ओर से यह जानकारी दी गयी कि परीक्षाओं पर रोक लगाने के साथ ही एक कमेटी का गठन किया गया है। पांच सदस्यीय कमिटी जांच के लिए बैठाई गयी है। खान सर ने कहा कि आरआरबी को यह काम पहले कर लेना चाहिए था। यह फैसला पहले लिया जाता तो शायद ऐसा विवाद नहीं होता।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और Whattsup, YOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.