तेजस्वी-तेजप्रताप ने बीमार पिता का छोड़ा साथ, लालू को किडनी देगा साधारण सा राजद कार्यकर्ता

चारा घोटाला के विभिन्न मामलों में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का गिरती सेहत की वजह से रिम्स के पेइंग वार्ड में इलाज हो रहा है। उनकी सेहत में लगातार गिरावट हो रही है, डाक्टरों के मुताबिक उनकी किडनी 33 फीसदी ही काम कर रही है। ऐसे में उन्हें कभी भी किडनी प्रत्यारोपण की जरूरत पड़ सकती है।

ऐसी विकट स्थिति में उनके परिजन, उनके दोनों पुत्र कुछ सोच नहीं पा रहे मगर उनका सेवक इरफान अंसारी बेहद परेषान है। उसने मालिक की जान बचाने के लिए उन्हें किडनी दान करने का फैसला तक कर डाला। वाकई इरफान लालू प्रसाद के लिए रहमत का फरिष्ता बन कर आग गया है। उसने कहा कि यदि उसका किडनी मैच नहीं हुआ तो उनके परिवार के जिस सदस्य की किडनी मैच हो वह देने को वे तैयार हैं। इस संबंध में इरफान हलफनामे के साथ रिम्स प्रबंधन को आवेदन देने जा रहा है कि वे और उनके परिवार के सदस्य किसी भी वक्त किडनी देने को तैयार हैं। यह है एक सेवक की दरियादिली।
bihar lok sabha election

दूसरी तरफ राजद सुप्रीमो के दोनों पुत्र तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव। उनके पास इरफान जैसा दिल या जिगर कहां जो अपना ही नहीं वरन पूरे परिवार की किडनी आॅफर कर बैठा है। तेजप्रताप तो संत किस्म के हैं उन्हें तो पिता के लिए किडनी देने के लिए तत्काल डाक्टर को बता देना चाहिए था। मगर उन्होंने ऐसा कुछ किया नहीं। जिस पिता ने दोनों नन-मैट्रिक बेटों को मंत्री व उपमुख्यमंत्री बनाया उनको देने के लिए उनके पास एक अदद किडनी नहीं। पिता लालू प्रसाद की ही बदौलत उनके दोनों पुत्र अपार सम्पत्ति के मालिक हैं जिस पर उन्हें गुमान है।

वे भला अपना किडनी पिताश्री को क्यूं देकर पुत्र होने का फर्ज अदा करेंगे। उन्हें तो अपनी सेहत बनाये रखना है। लिहाजा वे इत्मीनान से बैठे हुए हैं कि जब भी किडनी प्रत्यारोपण की जरूरत होगी वे किडनी खरीद लेंगे या कोई अन्य उपाय कर किडनी का जुगाड़ कर लेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.