चेतावनी : बिहार वालों अच्छे से लाकडाउन का पालन करों नहीं तो जल्द लग जाएगा कर्फ्यू

बिहार की तरह लॉकडाउन तोड़ा तो पंजाब और महाराष्ट्र में लगा कर्फ्यू

पूरा देश अब लॉकडाउन, पटना में सात दुकानदारों पर मुकदमा : काेराेनावायरस को फैलने से राेकने के लिए 30 राज्याें-केंद्रशासित प्रदेशों में लाॅकडाउन हाे चुका है, जबकि 3 राज्यों में आंशिक लॉकडाउन है। लॉकडाउन के पहले ही दिन बिहार समेत देश के तमाम हिस्सों में मामले की गंभीरता न समझते हुए लोग सड़कों पर निकले। इसे देखते हुए केंद्र ने राज्याें काे सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।

इसके बाद पंजाब, महाराष्ट्र, पुड्डुचेरी और चंडीगढ़ में 31 मार्च तक कर्फ्यू लगा दिया गया। कई राज्याें में पुलिस ने सख्ती की। इसी बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने लाेगाें से लाॅकडाउन काे गंभीरता से लेने की अपील की। उन्हाेंने काेराेनावायरस काे लाइफटाइम चैलेंज बताया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अांशिक लॉकडाउन से संक्रमण की कड़ी ताेड़ने का मकसद पूरा नहीं हो पाएगा। इसे देखते हुए मंगलवार रात से घरेलू विमान सेवाएं भी बंद हो जाएंगी। देश में रोज 5,100 घरेलू उड़ानें संचालित हाेती हैं, जिनमें 6.66 लाख लाेग सफर करते हैं।

देश: 2 और मौतें, 86 नए मरीज, मरीजों का आंकड़ा 500 की ओर{देश में सोमवार को दो और मौतें हुईं। एक हिमाचल में और दूसरी बंगाल में। सोमवार को केरल में 15, गुजरात में 11, महाराष्ट्र में 6, राजस्थान में 4 अाैर पंजाब में 1 नया केस सामने अाया। सबसे ज्यादा 76 मामले महाराष्ट्र में सामने आ चुके हैं। देश में अबतक 478 मरीज मिले हैं।

लॉकडाउन व कर्फ्यू के अंतर को इस तरह समझें : लॉकडाउन : दूध, सब्जी, दवा, पेट्रोल या अन्य जरूरी चीजों को खरीदने के लिए लोग किसी वक्त निकल सकते हैं। राशन, दवा, सब्जी, दूध व अन्य जरूरी सामान की दुकानें खुली रहती हैं। सरकारी दफ्तर खुले रहते हैं ताकि कामकाज पर असर न पड़े।

कर्फ्यू : 5 से अधिक लोग कर्फ्यू में ढील मिलने पर एक साथ जमा नहीं हो सकते हैं। सड़क पर निजी या सार्वजनिक वाहन नहीं चलेंगे। केवल पुलिस व प्रशासन की गाड़ी चलेगी। सभी जरूरी सेवाएं बैंक, डेयरी, बस बंद रहेंगी।

लाॅकडाउन काे गंभीरता से लें, खुद काे अाैर अपने परिवार काे बचाएं^लॉकडाउन को कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे। कृपया खुद काे अाैर अपने परिवार को बचाएं। निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। मेरा राज्याें से अनुरोध है कि वे नियम और कानूनों का पालन करवाएं। – नरेंद्र माेदी, प्रधानमंत्री

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *