सात समंदर पार जाने के बाद भी नहीं भूलीं घर की परंपरा, इंग्लैंड-लंदन में मनाया जा रहा छठ पूजा

Chhath puja in Britain बिहार की दहलीज छोड़ने के बाद भी इंग्लैंड के लंदन में रहने वाले धनंजय मिश्र की पत्नी नीता मिश्रा प्रतिवर्ष छठ करती है। छठ व्रत में वहां के लोगों भी शामिल होते है ।

भले ही इनका परिवार सात समंदर पार ब्रिटेन में है, लेकिन यहां से जाने के बाद भी वे अपनी परंपरा को संजोए हुए है। बिहार की दहलीज छोड़ने के बाद भी इंग्लैंड के लंदन में रहने वाले धनंजय मिश्र की पत्नी नीता मिश्रा प्रतिवर्ष छठ करती है। छठ व्रत में वहां के लोगों भी शामिल होते है। करीब 14 साल पहले बगहा के पटखौली में रहने वाले नीता मिश्रा अपने पति धनंजय मिश्र के साथ लंदन चली गई थी। नीता वहां एपेक्स टेकनोटेक के बोर्ड मेंबर पद पर कार्यरत है, लेकिन आज तक अपनी परंपरा को संजोए हुए है।

नीता बताती है कि उनके पुत्र के जन्म से पूर्व उसकी मां ने छठी मईया से सबकुछ ठीक रहने पर पांच वर्ष तक छठ व्रत करने का संकल्प ली थी। तब से वह छठ करती है। नीता इंग्लैंड में करीब दस वर्षों से छठ कर रही है। व्रत में पूरा परिवार सहयोग करता है।

नीता बताती है कि लंदन में छठ व्रत में उपयोगी सारी सामग्री मिल जाती है। वह अपने घर में ही घाट बना सूर्य को अघ्र्य देती है। छठ व्रत आने से कुछ दिन पहले ही म्युजिक सिस्टम पर छठ गीत बजना शुरू हो जाता है। सभी लोग आस्था के सागर में डूब जाते है। नीता के पति धनंजय मिश्र का कहना है कि वे अपने बच्चों में भारतीय संस्कार को जीवंत रखना चाहते है। ताकि आने वाली पीढ़ी इसको अपने में बरकरार रखे।

वहीं, बेतिया की गायत्री पिछले 20 वर्षों से कनाडा की राजधानी ओटावा में पूरे विधि-विधान व पवित्रता के साथ छठ करती हैं। इस अवसर पर गायत्री देवी का पूरा परिवार कनाडा में एकत्रित होता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *