दिल्ली में बंगाल की नयना पर दिल हार बैठे थे रवीश कुमार, तमाम मुश्किलों को पार कर रचाई शादी

रवीश कुमार आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। पत्रकारिता की दुनिया में उन्होंने अपना एक अलग मुकाम बना लिया है। पत्रकारिता के लिए रवीश कुमार को तमाम प्रतिष्ठित सम्मानों के साथ ही एशिया के सबसे बड़ा सम्मान रैमन मैग्सेसे से भी नवाजा गया है। प्रेम पर रवीश कुमार ने एक किताब भी लिखी है। इश्क में सहर होना नाम की इस किताब के विमोचन पर रवीश कुमार ने प्रेम को लेकर अपने जज्बात जाहिर करते हुए कहा था कि जब तक आप किसी के साथ इश्क नहीं करते तब तक आपके जीवन में सुबह नहीं होती। आइए जानते हैं आखिर कैसी है खुद रवीश कुमार की लव स्टोरी

रवीश कुमार मूल रूप से बिहार के मोतिहारी के रहने वाले हैं। साधारण पृष्ठभूमि के रवीश कुमार ने पटना के लोयोला हाई स्कूल से स्कूलिंग की जिसके बाद ग्रैजुएशन के लिए वह दिल्ली निकल गए। दिल्ली विश्वविद्यालय के देशबंधु कॉलेज में रवीश कुमार ने बीए में एडमिशन लिया और सिविल सर्विस की भी तैयारी करने लगे। दिल्ली में पढ़ाई के दौरान ही उनकी मुलाकात हुई अपनी होने वाली जीवनसंगिनी से।

उन दिनों कोलकाता की रहने वालीं नयना दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज से बीए कर रही थीं। बीए के बाद उन्होंने जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से एमए किया।
रवीश और नयना जब एक दूसरे से मिले तो काफी अच्छे दोस्त बन गए। मीडिया रिपोर्ट्स और इंटरनेट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक नयना रवीश कुमार को अंग्रेजी सीखाने में मदद भी किया करती थीं।

नयना से रवीश कुमार की दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई। दोनों ने शादी का मन बनाया। हालांकि शादी की राह इतनी आसान नहीं थी। अलग कास्ट को लेकर दोनों के परिवारों ने आपत्ति जताई। लेकिन कहते हैं ना कि इश्क अपना रास्ता खुद ही बना लेता है। इनके मामले में भी ऐसा ही हुआ। 7 साल तक एक दूसरे को डेट करने के बाद दोनों ने आखिरकार शादी कर ली।

आज रवीश कुमार और नयना दासगुप्ता सुखी वैवाहिक जीवन जी रहे हैं। दोनों की दो बेटियां हैं। रवीश कुमार जहां एनडीटीवी में मैनेजिंग एडिटर हैं वहीं नयना लेडी श्रीराम कॉलेज में इतिहास पढ़ाती हैं।रवीश कुमार के निजी जीवन से जुड़ी ये जानकारियां इंटरनेट पर मौजूद तमाम रिपोर्ट्स के आधार पर दी गई हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *