तेजस्वी यादव का खासमखास निकला मधुबनी कांड का मास्टरमाइंड, सुशील मोदी ने किया नया खुलासा

PATNA : मधुबनी के बहुचर्चित महमदपुर हत्याकांड में सुशील मोदी ने नया खुलासा किया है. सुशील मोदी ने कहा है कि इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड प्रवीण झा नहीं बल्कि राजेश यादव नाम का आदमी है. मोदी कह रहे हैं कि राजेश यादव तेजस्वी यादव का खास आदमी है और उसने ही तेजस्वी के संरक्षण में इस घटना को अंजाम दिलाया. दिलचस्प बात ये है कि पीड़ित परिवार चीख चीख कर प्रवीण झा का नाम ले रहा है, FIR में कहीं राजेश यादव का नाम नहीं है. लेकिन सुशील मोदी ने कहा है कि राजेश यादव को गिरफ्तार कर तेजस्वी यादव से उसके लिंक की पड़ताल की जानी चाहिये.

मधुबनी के बहुचर्चित महमदपुर कांड में पीड़ित परिवार ने एफआईआर दर्ज करायी है. पीड़ित परिवार कह रहा है कि प्रवीँण झा से पहले से विवाद चल रहा था. उसने ही पांच लोगों की हत्या करायी. हत्याकांड के बाद दर्ज एफआईआर में भी प्रवीण झा को इस हत्याकांड का सूत्रधार बताया गया है. पुलिस ने अब तक के अपने अनुसंधान में FIR में अभियुक्त बनाये गये लोगों के अलावा किसी दूसरे की संलिप्तता नहीं पायी है. लेकिन सुशील मोदी ने अपने इंवेस्टीगेशन से बड़ा खुलासा किया है.

सुशील मोदी ने आज कहा है कि महम्मदपुर कांड का असली साजिशकर्ता राजेश यादव नाम का आदमी है और उसे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का संरक्षण हासिल है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को बताना चाहिये कि यह राजेश यादव कौन है? क्या इसी राजेश यादव के साथ नेता प्रतिपक्ष महम्मदपुर नहीं गए थे?

सुशील मोदी ने आरोप लगाया है कि राजेश यादव ही महम्मदपुर गोलीकांड का असली साजिशकर्ता है. वह बेनीपट्टी राजद का प्रखंड अध्यक्ष है औऱ प्रखंड प्रमुख का पति है. राजेश यादव का मछुआरा समिति के डम्मी सदस्यों के माध्यम से थोड़े समय पहले तक विवादित तालाब पर कब्जा था. उसी तालाब पर अपना वर्चस्व बरकरार रखने के लिए ही उसने सुरेंद्र सिंह और प्रवीण झा के परिवारों को लड़ाई के लिए उकसाया. उसकी साजिशी चाल थी कि दोनों परिवार लड़े- मरे तो तालाब पर उसका वर्चस्व कायम रहेगा.

सुशील मोदी ने कहा है कि राजेश यादव ने पिछला विधान सभा का चुनाव बेनीपट्टी से लड़ा था और उसे 10 हजार वोट मिले थे. अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति के लिए ही उसने जातीय तनाव भड़काने की साजिश रची. सुशील मोदी ने बिहार पुलिस को कहा है कि वह राजेश यादव को अविलंब गिरफ्तार कर उसके कॉल डिटेल्स रिकार्ड को खंगाले, क्योंकि वह लगातार प्रवीण झा, सुरेन्द्र सिंह और तेजस्वी यादव के सम्पर्क में रहा है.

सुशील मोदी ने कहा है कि मधुबनी और घटना स्थल के आसपास कहीं भी जातीय तनाव नहीं है, मगर राजद इसी राजेश यादव के माध्यम से पूरे जिले में जातीय तनाव भड़काने की कोशिश कर रहा है. जातीय तनाव भड़काने ही तेजस्वी महमदपुर गये थे तभी महमदपुर में राजेश यादव भी तेजस्वी के साथ था.

सुशील मोदी ने कहा है कि आपराधिक चरित्र के राजेश यादव पर पहले से ही संज्ञेय अपराधों में आधा दर्जन मुकदमे दर्ज है. इस पूरे कांड में राजेश यादव को गिरफ्तार कर पुलिस उसकी संलिप्तता की गम्भीरता से जांच करें ताकि साजिश सामने आये और असली अपराधी को सजा मिल सके.

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *