दिल्ली में फिर हुआ अ-ग्निकांड, बिहार के मधुबनी के एक ही परिवार के 9 लोगों की मौ’त

दिल्ली के किराड़ी के कपड़ा गोदाम में आ-ग लगने से 9 लोगों की जा-न चली गई है। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार आ-ग लगने के कारण 3 लोगों की मौ-त घटनास्थल पर हो गई जबकि 6 अन्य लोगों की मौ-त इलाज के दौरान हुई। बताया जा रहा है कि आ-ग जिस वक्त लगी उस वक्त गोदाम में कुछ लोग सो रहे थे। आ-ग की सूचना के बाद मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने काफी मशक्कत के बाद आ-ग पर काबू पाया।

मुआवजे का ऐलान : घटना के बाद दोपहर में दिल्ली सरकार ने मुआवजे का ऐलान किया। हा-दसे में जा-न गंवानेवाले लोगों के परिवार को सरकार 10-10 लाख रुपये सहायता राशि देगी। वहीं घा-यलों को एक-एक लाख दिया जाएगा। दिल्ली सरकार की तरफ से सतेंद्र जैन ने बताया कि मामले में एसडीएम स्तर की जांच होगी। सात दिन के भीतर हा-दसे की वजह का पता लगाया जाएगा।

घटना के बाद दोपहर में दिल्ली सरकार ने मुआवजे का ऐलान किया। हा-दसे में जा-न गंवानेवाले लोगों के परिवार को सरकार 10-10 लाख रुपये सहायता राशि देगी। वहीं घा-यलों को एक-एक लाख दिया जाएगा। दिल्ली सरकार की तरफ से सतेंद्र जैन ने बताया कि मामले में एसडीएम स्तर की जांच होगी। सात दिन के भीतर हा-दसे की वजह का पता लगाया जाएगा।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि किराड़ी वाली घटना में तीन लोगों को बचा लिया गया जिनकी पहचान पूजा (24) और उसकी बेटियों आराध्या (तीन) और सौम्या (10) के रूप में की गई है। आ-ग से बचने के लिए ये तीनों बगल की इमारत में कूद गए थे। मृ-तकों की शिनाख्त इमारत के मालिक राम चंद्र झा (65), सुदरिया देवी (58), संजू झा (36), गुड्डन और उदय चौधरी (33) एवं उसकी पत्नी मुस्कान (26) तथा उनके बच्चों अंजलि (10), आदर्श (सात) और छह माह की बच्ची तुलसी के रूप में की गई है।

पीसीआर पर मिली दिल्ली पुलिस को सूचना
पुलिस ने बताया कि आग की खबर हमें पीसीआर कॉल के जरिए मिली। पुलिस के अनुसार, ‘पहले घर में आ-ग लगने की सूचना मिली, लेकिन जब हम पहुंचे तो देखा कि गोदाम में आ-ग लगी है। जिस वक्त आ-ग लगी थी उस दौरान कुछ लोग गोदाम में सो रहे थे। घटना में घा-यल हुए सभी लोगों को पास के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया गया है।’

गोदाम में सुरक्षा उपाय का अभाव
पुलिस ने बताया कि गोदाम में सुरक्षा उपाय नहीं किए गए थे। आ-ग बुझाने के लिए सेफ्टी उपकरण नहीं थे और गोदाम से निकलने के लिए भी सिर्फ एक ही सीढ़ियां थीं। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार मृ-तकों में महिलाएं भी शामिल हैं। घटना स्थल पर मौजूद लोगों का कहना है कि चार मंजिला इमारत के निचले हिस्से में गोदाम है जहां सबसे पहले आ-ग लगी। मृ-तकों में सभी लोग आग लगने के दौरान ऊपरी मंजिल पर सो रहे थे। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *