बिहार बोर्ड का बड़ा फैसला, मैट्रिक-इंटर के प्रमाणपत्रों में आसानी से करा सकेंगे सुधार, आवेदन शुरू

बिहारविद्यालय परीक्षा समिति ने वर्ष 209 एवं 20 में मैट्रिक एवं इंटर की परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों को औपबंधिक प्रमाणपत्र एवं अंकमपत्रों में सुधार करने की सुविधा प्रदान की है। इस तरह का अवसर परीक्षार्थियों को बोर्ड द्वारा पहली बार दिया गया है। इसके लिए 30 सितंबर से 14 अक्टूबर तक आवेदन क्षेत्रीय कार्यालय में जमा किए जाएंगे। आवेदन विभिन्‍न साक्ष्यों के साथ किए जाएंगे।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर का कहना है कि कई परीक्षार्थियों के नाम, माता- पिता के नाम, जाति, लिंग, जन्मतिथि एवं फोटो में त्रुटि रह गई है। ऐसे परीक्षार्थियों को समिति की ओर से अंकपत्र एवं औपबंधिक प्रमाणपत्रों में सुधार का अवसर प्रदान किया गया है। यह अवसर मुख्य परीक्षा के साथ-साथ कंपार्टमेंटल परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों को भी प्रदान किया जा रहा है। मालूम हो कि बोर्ड द्वार इसके पहले पंजीयन कार्ड एवं एडमिट कार्ड में भी सुधार का अवसर दिया गया था, इसके बावजूद परीक्षार्थियों के अंकपत्रों एवं औपबंधिक प्रमाणपत्रों में त्रुटि रह गई है।

त्रुटि में सुधार के लिए देना होगा शपथ पत्र : परीक्षा समिति ने मूल प्रमाणपत्र, अंकपत्र एवं औपषबंधिक प्रमाणाप्र में सुधार के लिए शपथ पत्र देना अनिवार्य कर दिया है। आवेदन के साथ परीक्षार्थियों को शपथ पत्र देना होगा। इसके साथ में पंजीयन कार्ड, प्रवेश पत्र की छाया प्रति देनी होगी। परीक्षार्थियों को आवेदन जमा करने से पहले अपने स्कूल के प्राचार्य से अनुशंसा करानी होगी | ्षेत्रीय कार्यालय में आवेदन शुल्क सहित जमा करना होगा। फिर संशोधन के उपरांत परीक्षार्थी संशोधित मूल प्रमाणपत्र, औपबंधिक प्रमाणपत्र एवं अंकाम्रों को प्राप्त कर सकते हैं।इस संबंध में सभी क्षेत्रीय कार्यालय के उप सचिव को विशेष निर्देश दिया गया है कि इन आवेदनों को प्राथमिकता के आधार पर सुधार कराएं। बोर्ड द्वारा परीक्षार्थियों के लिए यह भी निर्देश दिया गया है कि क्षेत्रीय कार्यालय में आवेदन जमा करते वक्‍त कोरोना संक्रमण का ख्याल रखें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *